Home हरदोई पिहानी: ग्रापए संस्थापक बाबू बालेश्वर लाल की 34वीं पुण्यतिथि मनाई गई

पिहानी: ग्रापए संस्थापक बाबू बालेश्वर लाल की 34वीं पुण्यतिथि मनाई गई

ग्रापए पूरे प्रदेश में पत्रकारों का सबसे बड़ा संगठन- अतुल कपूर

पिहानी : गायत्री प्रज्ञा पीठ के प्रांगण में ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन (ग्रापए) द्वारा संस्थापक बाबू बालेश्वर लाल की 34वीं पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इससे पूर्व ग्रापए लखनऊ मंडल के अध्यक्ष अतुल कपूर ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। पत्रकारों ने स्व. बाबू बालेश्वर लाल की चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी।

यह भी पढ़ें – आकांक्षा राना (CDO) ने मनरेगा अन्तर्गत मिट्टी कार्य का किया निरीक्षण

ग्रामीण पत्रकारिता दिवस (ग्रापए) के अवसर पर ‘ग्रामोन्मुखी पत्रकारिता’ विषय पर अपने-अपने विचार कई पत्रकारों ने प्रस्तुत किए। संचालन करते हुए ग्रापए मंडलाध्यक्ष अतुल कपूर ने बताया कि सन् 1982 में इस संगठन की शुरुआत की गई थी। जिसके बाद निरंतर कई पत्रकार इससे जुड़ते रहे और आज यह संगठन पूरे प्रदेश का सबसे बड़ा संगठन है। उन्होंने बताया कि जिला पत्रकार स्थायी समिति में इस संगठन का एक प्रतिनिधि सम्मानित सदस्य के रूप में नामित किया जाता है। उन्होंने इस संगठन के बनने के शुरुआती दौर का भी वर्णन किया।

पूरी खबर के लिए क्लिक करें –चौकी इंचार्ज को गोली मारने वाला हिस्ट्रीशीटर मिर्ची मुठभेड़ में गिरफ्तार

महासचिव संजय सिंह ने कहा कि दिशाविहीन पत्रकारिता समाज को ले डूबती है और इससे आपका भी पतन होता है। किसी भी समस्या को गहराई से लिखें और उसे सभी के सामने लायें ताकि उसका ठीक प्रकार से निवारण किया जा सके।

‘बात सच हो और समाजहित की हो’ आधार पर करें पत्रकारिता- पीयूष

पीयूष शुक्ला ने कहा कि स्वार्थयुक्त पत्रकारिता आपके पतन का कारण बनती है। पत्रकारिता दो पहलुओं पर करें – बात सच हो, बात समाजहित की हो। व संगठन मंत्री संयोजक नवनीत कुमार रामजी ने कहा कि ग्रामीण पत्रकारिता ही जमीनी पत्रकारिता है। एक ग्रामीण पत्रकार 24 घंटे ऑन ड्यूटी रहता है। अपने निजी काम व निजी स्वार्थ को त्यागकर समाजहित में अपना जीवन अर्पित कर देता है।

समस्यात्मक खबरों को स्तंभ लेखन के रूप में लिखें – सौरभ

कोषाध्यक्ष सौरभ सिंह ने कहा कि समस्यात्मक खबरों को स्तंभ लेखन के रूप में लिखें। स्तंभ लेखन में किसी भी समस्या को एक विशिष्ट शैली के माध्यम से लिखा जाता है। समस्या के कारण के साथ-साथ उसका निवारण भी लिखें। ताकि संबंधित प्रतिनिधि या अधिकारी को उस समस्या को दूर करने के लिए मदद मिले।

इस बीच कोविड-19 गाइड लाइन का पालन किया गया। सोशल डिस्टनसिंग के साथ सभी पत्रकार दो पंक्तियों में उचित दूरी पर बैठे दिखाई दिए। रजनीकांत त्रिपाठी, बबलू प्रजापति, अजीत सिंह, अनिल राठौर, प्रदीप राठौर, सुनील, कमल किशोर, अवनीश कुमार अवस्थी, फूल सिंह, देशराज, जुबैर आदि पत्रकार उपस्थित रहे।

देश की हर नौकरी की खबर आप तक सबसे पहले आपकी अपनी एप्प “रोजगार अलर्ट “पर

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.hdibharat.rojgaralert
- Advertisment -

Most Popular

डीएम अविनाश कुमार, सीडीओ आकांक्षा राना समेत 126 महादानियों ने किया रक्तदान

हरदोई। अमर उजाला फाउंडेशन के तत्वावधान में बुधवार को आयोजित रक्तदान शिविर में 126 महादानियों ने रक्तदान कर समाज को जनहित में...

क्या है ‘ग्लू ग्रांट’ (Glue Grant) योजना व ‘मेटा विश्‍वविद्यालय’ (Meta University)अवधारण?

चालीस केंद्रीय विश्वविद्यालय अकादमिक क्रेडिट बैंक व यूजी पाठ्यक्रमों में बहु-विषयक (multidisciplinary) को प्रोत्साहित करने के लिए ग्लू ग्रांट (Glue Grant) जैसे...

रोजा-इफ्तार कराने वाले लगा रहे संगम में डुबकी:उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

हरदोई : रसखान प्रेक्षागृह में पांच अरब 96 करोड़ 95 लाख रुपये की 159 कार्यों की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करने...

65 बाघों का घर, पीलीभीत टाइगर रिजर्व, Pilibhit Tiger Reserve

पीलीभीत बाध अभयारण्य उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में स्थित है और 2014 में इसे टाइगर रिजर्व के रूप में अधिसूचित किया...

Recent Comments

Translate »