Home क्राइम एम्स में नौकरी दिलाने के नाम पर 50 लोगों से हुई 19...

एम्स में नौकरी दिलाने के नाम पर 50 लोगों से हुई 19 लाख 32 हजार की ठगी

गोरखपुर:आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) जालसाजों का अड्डा बन गया है। आए दिन एम्स में विभिन्न पदों पर नौकरी दिलाने के नाम पर बेरोजगार युवाओं व महिलाओं से लाखों की ठगी हो रही है। अबतक करीब 50 महिलाओं से करीब 19 लाख 32 हजार रूपये की ठगी का मामला सामने आ चुका है।

यह भी पढ़ें : गैरहाजिरी पर 24 कर्मचारियों का सीडीओ ने रोका वेतन

खोराबार निवासी सरिता की तहरीर पर नंदानगर दरगहिया निवासी मीरा के खिलाफ खोराबार थाने में पुलिस ने बुधवार की रात धोखाधड़ी व अमानत में खयानत के आरोप में केस दर्ज किया है। यह एम्स में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का पहला केस दर्ज हुआ है। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

सीओ कैंट के निर्देश पर खोराबार थाने में बुधवार की रात दर्ज हुए मुकदमें में फरियादी  खोराबार के नदुआ छावनी निवासी सरिता ने पुलिस को बताया कि बेलीपार के महाबीर छपरा निवासी रेखा व खोराबार के फुरसतपुर निवासी रमावती ने उसे बताया कि नंदानगर दरगहिया निवासी मीरा पत्नी सुनील कुमार एम्स में सफाई कर्मी, वार्ड ब्वाय, कंप्यूटर कैशियर की नौकरी दिलवा रही है।

जिसके बाद रेखा व रमावती के साथ सरिता बीते 2 जुलाई को एम्स के बाहर नौकरी दिलवाने वाली मीरा से मिली। सरिता के साथ खोराबार के बड़गो निवासी मंजू गौड़ और बेलीपार के महाबीर छपरा निवासी राधिका गौड़ भी थी।

 
खुद को बताया एम्स का कर्मचारी
सरिता व अन्य लोगों के मिलने पर आरोपित मीरा ने बताया कि वह एम्स में काम करती है और वहां के अधिकारियों पंकज सिंह सोलंकी व विनोद यादव से अच्छे संबंध हैं। वह उन लोगों का विभिन्न पदों पर संविदा पर नौकरी लगवा देगी। लेकिन एक नौकरी का 50 हजार से डेढ़ लाख रूपये लगेंगे।


एकाउंट से दिया है रकम
दर्ज मुकदमें के अनुसार सरिता ने अपना व 11 अन्य लोगों का 147380 रूपये खाते से और 290000 रूपये नगद दिया। इसी प्रकार मंजू गौड़ ने अपना व सात अन्य लोगों का  405000, राधिका गौड़ ने अपना व आठ अन्य लोगों का 270000, मंजू शर्मा ने अपना व 12 अन्य लोगों का 420000, लाल मोहम्मद ने अपना व अपने भाई महबूब अली का 300000, बैजनाथ ने 20 हजार, मेनका ने 20 हजार,विमला ने 20 हजार, लक्ष्मण ने 20 हजार और अमन ने 20 हजार रूपये दिया। रकम लेने के बाद आरेापी मीरा ने 16 नवंबर 2021 तक नौकरी दिलाने का वादा किया था। लेकिन उसके बाद भी नौकरी नहीं दिलाई और फरार हो गई। परेशान होकर सरिता ने सीओ कैंट से मुलाकात की और जिसके बाद खोराबार पुलिस ने आरोपी मीरा के खिलाफ केस दर्ज किया है।

रोजगार से जुडी खबरों के लिए डाउनलोड करें ROJGAR ALERT App

- Advertisment -

Most Popular

जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 की हालत गंभीर

रायबरेली : उत्‍तर प्रदेश के रायबरेली के महाराजगंज कोतवाली क्षेत्र के पहाड़पुर गांव में शराब पीने से चार लोगों की मौत...

भाजपा में बगावत, पूर्व MLA सतीश वर्मा ने बसपा से ठोकी ताल

हरदोई : उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं, वैसे वैसे दल- बदल का खेल तेज हो गया है।...

‘स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी’: समानता के लिए काम करने वाले संत रामानुजाचार्य को एक सच्ची श्रद्धांजलि

HBN: 11वीं सदी के सुधारक और वैष्णव संत, श्री रामानुज (रामानुजाचार्य)की 216 फीट ऊंची 'स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी' पर काम तेजी से चल...

समस्त निर्वाचन कार्मिकों को कोविड टीकाकरण का बूस्टर डोज प्रशिक्षण कक्ष में ही कराये जाने की व्यवस्था की जा रही हैः-आकांक्षा राना

हरदोई : मुख्य विकास अधिकारी/प्रभारी अधिकारी कार्मिक, कार्मिक एवं प्रशिक्षण आकांक्षा राना ने बताया है कि विधान सभा सामान्य निर्वाचन 2022 में...
Translate »