होमदेशMukhyamantri Beej Swavalamban Yojana 2024: Rajasthan के किसानों को बिना किसी समस्या...

Mukhyamantri Beej Swavalamban Yojana 2024: Rajasthan के किसानों को बिना किसी समस्या के खुदरा और आत्मनिर्भर बनाने के लिए शुरू की गई योजना

spot_img

Mukhyamantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान मुख्यमंत्री बीज स्वावलंबन योजना राजस्थान की शुरुआत राजस्थान के मुख्यमंत्री Ashok Gehlot द्वारा किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए की गई है। इस योजना के माध्यम से राज्य के किसानों को सरकार द्वारा निःशुल्क बीज उपलब्ध कराये जायेंगे। इसके अलावा, राजस्थान सरकार मिनीकिट के माध्यम से कमजोर वर्ग के किसानों को लाभ प्रदान करती है। क्योंकि किसानों को खेती के लिए सबसे ज्यादा जरूरत बीज की होती है. वहीं कई किसान ऐसे भी हैं जो बीज खरीदने में असमर्थ हैं. किसानों के ऐसे कमजोर वर्ग को लाभ पहुंचाने के लिए RSSC की ओर से मुफ्त बीज उपलब्ध कराए जाते हैं। जिससे किसान कम लागत में अच्छी उपज पैदा कर सकें। अगर आप भी राजस्थान के किसान हैं और खेती के लिए मुफ्त बीज का लाभ लेना चाहते हैं। तो आपको इस आर्टिकल को अंत तक विस्तार से पढ़ना होगा।

Mukhyamantri Beej Swavalamban Yojana 2024

Mukhyamantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान की शुरुआत राजस्थान के मुख्यमंत्री Ashok Gehlot द्वारा की गई है। इस योजना के माध्यम से कृषि विभाग का लक्ष्य राज्य के किसानों को लाभ पहुंचाना है। कृषि विभाग द्वारा 30 से 50 किसानों का एक समूह बनाया जाता है ताकि वे आपसी सहयोग से खेती कर सकें. कृषक समूह का चयन कृषि विभाग द्वारा किया जाता है। इन किसानों को RSSC की ओर से मुफ्त बीज उपलब्ध कराया जाता है। बुआई के बाद समूह के सभी किसानों को सरकार की ओर से प्रशिक्षण दिया जाता है. यह प्रशिक्षण किसान समूह को 3 चरणों में दिया जाता है। ताकि प्रशिक्षण प्राप्त कर किसान समूह बीज उत्पादन कर उसकी बिक्री कर सकें। इसके अलावा Mukhyamantri Beej Swavalamban Yojana के तहत लघु एवं सीमांत किसानों को बीज के लिए अनुदान प्रदान किया जाता है। ताकि राज्य के किसान बिना किसी परेशानी के अपनी खेती कर खुशहाल और आत्मनिर्भर बन सकें.

Rajasthan Mukhyamantri Beej Swavalamban Yojana के बारे में जानकारी

योजना का नामMukhyamantri Beej Swavalamban Yojana
शुरू की गईमुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा
विभागकृषि विभाग राजस्थान
लाभार्थीराज्य के किसान
उद्देश्यकिसानों को बीज उपलब्ध कराने के लिए 50% तक अनुदान उपलब्ध कराना
अनुदान50% अनुदान पर बीज उपलब्ध
राज्यराजस्थान
साल2024
आवेदन प्रक्रियाऑफलाइन

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान का उद्देश्य

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य के छोटे और सीमांत सामान्य किसानों को बीज उपलब्ध कराने के लिए कृषि विभाग द्वारा 50% तक की सब्सिडी प्रदान करना है। इसके अलावा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले किसानों को मुफ्त मिनी किट उपलब्ध कराया जाना है। ताकि राज्य के किसान अपने खेतों में बीज उत्पादन कर समृद्धि और आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ सकें. और उन्हें अपने खेतों में उपयोग के लिए बीज पैदा करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। इस योजना का लाभ उठाकर किसान कम लागत में अच्छी उपज पैदा कर सकेंगे। जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार आएगा।

किसानों को मिलता है 50% तक अनुदान

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana के तहत कृषि विभाग राज्य के छोटे और सीमांत किसानों को बीज उपलब्ध कराने के लिए अनुदान प्रदान करता है। इस योजना के अनुसार, राज्य के छोटे और सीमांत किसानों को सरकार द्वारा 50% तक सब्सिडी पर बीज उपलब्ध कराए जाते हैं। वहीं, सामान्य किसानों को 25% अनुदान पर बीज की आपूर्ति सुनिश्चित की जाती है. इसके अलावा खाद, दवाइयों और कृषि उपकरणों पर भी प्रत्येक राज्य सरकार द्वारा सब्सिडी दी जाती है। यह अनुदान अलग-अलग राज्यों के अनुसार अलग-अलग दिया जाता है। Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana के माध्यम से 2 लाख से अधिक किसानों को लाभ प्रदान किया गया है। इस योजना के तहत अब तक राजस्थान सरकार द्वारा 46,326 क्विंटल बीज निःशुल्क वितरित किये जा चुके हैं।

निःशुल्क बीज कैसे प्राप्त करें

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana के अंतर्गत सरकार द्वारा राज्य के किसानों को राष्ट्रीय तिलहन एवं तेल अनुमति एवं राष्ट्रीय उर्वरक सुरक्षा मिशन के तहत बीजों के निःशुल्क मिनीकिट वितरित किये जाते हैं। सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली बीजों की मिनी किट के लिए राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों की मिट्टी और जलवायु के आधार पर फसल के बीजों का चयन किया जाता है। ताकि राज्य कृषि विभाग किसानों को उन्नत गुणवत्ता वाले बीज उपलब्ध करा सके और उन्हें अपने उपयोग के लिए बीज उत्पादन करने के लिए प्रेरित कर सके। किसान परिवार की केवल एक महिला सदस्य को मिनी किट दी जाती है। भले ही जमीन महिला के पति, पिता या ससुर के नाम पर हो। मिनी किट का लाभ महिला सदस्य के नाम पर ही दिया जाता है।

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान के लाभ एवं विशेषताएं

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana का लाभ एससी, एसटी छोटे और सीमांत किसानों को प्रदान किया जाता है।
इस योजना में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले राज्य के गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के किसानों को प्राथमिकता दी जाती है।
इस योजना के तहत किसानों को राष्ट्रीय तिलहन एवं तेल अनुमति एवं राष्ट्रीय उर्वरक सुरक्षा मिशन के अनुसार निःशुल्क मिनी किट का लाभ दिया जाता है।
Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana के तहत छोटे किसानों को बीज पर 50% तक सब्सिडी प्रदान की जाती है।
जबकि सामान्य किसानों को 25 फीसदी सब्सिडी दी जाती है.
राजस्थान का कृषि विभाग RSSC के माध्यम से किसानों को निःशुल्क बीज उपलब्ध कराता है।
इस योजना के तहत अब तक राजस्थान सरकार द्वारा 46,326 क्विंटल बीज निःशुल्क वितरित किये जा चुके हैं।
इस योजना के तहत किसानों को प्रशिक्षण भी दिया जाता है. जिसके बाद किसान बीज उत्पादन कर बीज बेच सकते हैं.
Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान 2024 के माध्यम से राज्य में 2 लाख से अधिक किसान लाभान्वित हुए हैं।
इस योजना के माध्यम से किसान अपने खेतों में बीज उत्पादन कर आत्मनिर्भर बन रहे हैं।
यह योजना किसानों को अपने उपयोग के लिए बीज उत्पादन के लिए प्रेरित करने में मदद करेगी।

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान के लिए पात्रता

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान के लिए आवेदक को राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए।
इस योजना से राज्य के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, लघु एवं सीमांत किसानों को लाभ मिलेगा।
निःशुल्क मिनी किट प्राप्त करने के लिए आवेदक को पिछले 3 वर्षों में मिनी किट कार्यक्रम का लाभ न उठाया हो।
केवल महिला किसान ही मिनी किट प्राप्त करने की पात्र होंगी।

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान के लिए आवश्यक दस्तावेज

आधार कार्ड
पहचान पत्र
निवास प्रमाण पत्र
जाति प्रमाण पत्र
मोबाइल नंबर
पासपोर्ट साइज फोटो

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana राजस्थान के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana का लाभ उठाने के लिए सबसे पहले आपको अपने जिले के कृषि विभाग कार्यालय या कृषि विज्ञान केंद्र में जाना होगा।
वहां जाकर आपको इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
आवेदन पत्र प्राप्त होने के बाद आपको फॉर्म में पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी ध्यानपूर्वक दर्ज करनी होगी।
सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको आवेदन पत्र के साथ आवश्यक दस्तावेज संलग्न करने होंगे।
इसके बाद आपको यह आवेदन पत्र वापस उसी स्थान पर जमा करना होगा जहां से आपने इसे प्राप्त किया था।
इस प्रकार Mukhymantri Beej Swavalamban Yojana के तहत आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
एक बार आवेदन पत्र सत्यापित हो जाने के बाद आपको इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें