होमदेशMukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024: Rajasthan सरकार द्वारा किसानों को किसी भी...

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024: Rajasthan सरकार द्वारा किसानों को किसी भी दुर्घटना के मामले में वित्तीय सहायता प्रदान करने की योजना

spot_img

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana:- सरकार द्वारा किसानों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। ताकि उन्हें खेती करने में किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। ऐसी कई योजनाएं Rajasthan सरकार द्वारा भी चलाई जाती हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही योजना से जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं जिसका नाम है Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana। इस योजना के तहत, किसानों को खेती गतिविधियों के दौरान किसी भी दुर्घटना की स्थिति में वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। इस लेख को पढ़कर आपको इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाएगी। जैसे कि Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana क्या है?, इसका उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, लाभ, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों, यदि आप Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप। अनुरोध है कि हमारे लेख को अंत तक पढ़ें।

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana Rajasthan सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना की घोषणा Rajasthan के मुख्यमंत्री Ashok Gehlot ने 24 फरवरी 2021 को वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए बजट की घोषणा करते हुए की है। इस योजना के तहत यदि किसानों की खेती के दौरान मृत्यु हो जाती है या उन्हें किसी आंशिक या स्थायी विकलांगता का सामना करना पड़ता है, तो ऐसी स्थिति में उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। यह आर्थिक सहायता ₹5000 से लेकर ₹200000 तक होगी।

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 के बारे में जानकारी

योजना का नामRajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana
किस ने लांच कीराजस्थान सरकार
लाभार्थीराजस्थान के किसान
उद्देश्यदुर्घटना की स्थिति में आर्थिक सहायता प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च की जाएगी
साल2024
आर्थिक सहायता₹5000 से लेकर ₹200000 तक
बजट2000 करोड़ रुपए

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता

परिस्थितिआर्थिक सहायता
मृत्यु₹200000
2 अंगों में विकलांगता (या तो 2 हाथ या 2 पैर या 2 आंख या 1 हाथ और 1 पैर)₹50000
रीड की हड्डी का टूटना, सिर की चोट के कारण कोमा में जाना₹50000
पुरुष या महिला के सिर के पूरे हिस्से के बालों की डी स्कैल्पइंग₹40000
पुरुष या महिला के सर के कुछ हिस्से के बालों की डी स्कैल्पइंग₹25000
1 अंग में विकलांगता ( या हाथ या पैर या आंख या टखना)₹25000
यदि 4 उंगलियां कट जाती हैं₹20000
यदि 3 उंगलियां कट जाती हैं₹15000
यदि 2 उंगलियां कट जाती है₹10000
यदि 1 उंगली कट जाती है₹5000
दुर्घटना के कारण फ्रैक्चर5000

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 लाभार्थी क्रमानुसार

पति या पत्नी: यदि लाभार्थी की मृत्यु हो गई है या लाभार्थी विकलांग हो गया है, तो लाभ राशि लाभार्थी के पति या पत्नी को प्रदान की जाएगी।
बच्चे: यदि लाभार्थी का जीवनसाथी अनुपस्थित है तो लाभ राशि लाभार्थी के बच्चों को प्रदान की जाएगी।
माता-पिता: यदि लाभार्थी के बच्चे और पति या पत्नी अनुपस्थित हैं तो लाभ राशि लाभार्थी के माता-पिता को प्रदान की जाएगी।
पोता और पोती: यदि लाभार्थी के पास पति या पत्नी, बच्चे या माता-पिता नहीं हैं, तो उस स्थिति में लाभ राशि लाभार्थी के पोते और पोती को दी जाएगी।
बहन: यदि लाभार्थी की कोई अविवाहित/विधवा/आश्रित बहन लाभार्थी के साथ रहती है तो ऐसी स्थिति में लाभार्थी का कोई अन्य रिश्तेदार न होने पर बहन को लाभ राशि प्रदान की जाएगी।
वारिस: यदि लाभार्थी के पास पति या पत्नी, बच्चे, माता-पिता, बेटा या बेटी और बहन नहीं है, तो इस स्थिति में यदि लाभार्थी के पास वारिस अधिनियम के तहत कोई वारिस है, तो लाभ की राशि उसे प्रदान की जाएगी।
नोट: अचानक मृत्यु या स्थायी विकलांगता की स्थिति में, पंजीकृत किसान का बेटा या बेटी या पति या पत्नी Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के लाभार्थी होंगे। इस योजना का लाभ उठाने के लिए लाभार्थी की आयु 5 से 70 वर्ष होनी चाहिए।

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 का उद्देश्य

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana का मुख्य उद्देश्य किसानों को कृषि गतिविधियों के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं की स्थिति में वित्तीय सहायता प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से यदि किसानों को कृषि कार्यों के दौरान किसी भी प्रकार की दुर्घटना का सामना करना पड़ता है, तो उन्हें सरकार द्वारा ₹5000 से ₹200000 तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। जिससे वह अपना इलाज करा सके। Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के माध्यम से, Rajasthan के किसान आत्मनिर्भर बनेंगे और दुर्घटनाओं के कारण होने वाले वित्तीय संकट से लड़ने में भी मदद मिलेगी।

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana की आवश्यकता

अब Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के माध्यम से किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। यह वित्तीय सहायता कृषि कार्य के दौरान दुर्घटना होने पर प्रदान की जाएगी। यह वित्तीय सहायता दुर्घटना के कारण उत्पन्न वित्तीय संकट से निपटने में मदद करेगी। इस योजना के माध्यम से प्राप्त वित्तीय सहायता से किसान अपना इलाज भी करा सकेंगे। यदि किसान की मृत्यु हो जाती है तो मृतक के परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। ताकि वह अपना पैसा खर्च कर सके. इस योजना से किसान एवं किसान परिवार आत्मनिर्भर एवं सशक्त बनेंगे।

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 के माध्यम से कृषि क्षेत्र का भी विकास होगा। यदि इस योजना के तहत पंजीकृत किसान की मृत्यु हो जाती है, तो उसके परिवार को लाभ राशि प्रदान की जाएगी और यदि किसान विकलांग हो जाता है, तो पंजीकृत किसान को लाभ राशि प्रदान की जाएगी।

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 के लाभ एवं विशेषताएं

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana Rajasthan सरकार द्वारा शुरू की गई है।
इस योजना को शुरू करने की घोषणा 24 फरवरी 2021 को Rajasthan के मुख्यमंत्री Ashok Gehlot द्वारा की गई है।
इस योजना के माध्यम से, यदि किसानों की कृषि गतिविधियों के दौरान मृत्यु हो जाती है या किसी प्रकार की विकलांगता होती है, तो उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
यह आर्थिक सहायता ₹5000 से ₹200000 तक होती है।
यदि लाभार्थी की मृत्यु हो जाती है तो आवेदक किसान का उत्तराधिकारी होगा और यदि किसान विकलांग हो जाता है तो आवेदक स्वयं विकलांग किसान होगा।
इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसान को आवेदन पत्र भरकर संबंधित विभाग में जमा करना होगा।
किसान को यह आवेदन पत्र दुर्घटना के 6 माह के भीतर जमा करना होगा।
यदि किसान दुर्घटना के 6 महीने बाद आवेदन पत्र जमा करता है तो ऐसी स्थिति में उसे इस योजना का लाभ प्रदान नहीं किया जाएगा।
इस योजना के माध्यम से प्राप्त राशि से किसान अपना इलाज करा सकता है।
Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के माध्यम से किसानों को दुर्घटनाओं के कारण होने वाले आर्थिक संकट से लड़ने में भी मदद मिलेगी।
इस योजना का लाभ लेने के लिए किसान की उम्र 5 से 70 साल के बीच होनी चाहिए.
किसान को इस योजना का लाभ तभी प्रदान किया जाएगा जब उसकी मृत्यु या विकलांगता किसी दुर्घटना के कारण हुई हो।
इस योजना के अंतर्गत आत्महत्या या प्राकृतिक मृत्यु को कवर नहीं किया गया है।
आप इस योजना के तहत ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।
सरकार द्वारा जल्द ही इस योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया सक्रिय कर दी जाएगी।
इस योजना का बजट सरकार ने 2000 करोड़ रुपये तय किया है.

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 की पात्रता

इस योजना का लाभ उठाने के लिए स्थायी रूप से विकलांग व्यक्ति का पंजीकृत किसान होना अनिवार्य है।
यदि किसान की मृत्यु हो जाती है, तो लाभ प्राप्त करने वाला व्यक्ति पंजीकृत किसान का बेटा या बेटी या पति या पत्नी होना चाहिए।
इस योजना का लाभ लेने के लिए मृतक या स्थायी रूप से विकलांग व्यक्ति की उम्र 5 से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
इस योजना का लाभ लेने के लिए दुर्घटना के कारण मृत्यु या स्थायी विकलांगता होनी चाहिए।
इस योजना के अंतर्गत आत्महत्या या प्राकृतिक मृत्यु को कवर नहीं किया गया है।
आवेदक को दुर्घटना के 6 महीने के भीतर संबंधित जिला कृषि अधिकारी के कार्यालय में आवेदन करना होगा।

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 महत्वपूर्ण दस्तावेज

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के तहत आवेदन करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है।

निर्धारित प्रपत्र में आवेदन
एफआईआर एवं समर्थन पंचनामा पुलिस जांच रिपोर्ट
मृत्यु के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट या मृत्यु प्रमाण पत्र
उम्र का सबूत
अनुविभागीय मजिस्ट्रेट की प्रकरण स्वीकृति रिपोर्ट
स्थायी विकलांगता के मामले में, मेडिकल बोर्ड/सिविल सर्जन से विकलांगता प्रमाण पत्र और विकलांगता की तस्वीर।
क्षतिपूर्ति बांड
बाल विवरण रिपोर्ट
बीमा निदेशक द्वारा मांगे गए अन्य साक्ष्य

Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

यदि आप Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024 के तहत आवेदन करना चाहते हैं तो आपको निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करना होगा।

सबसे पहले आपको अपने जिले के कृषि विभाग में जाना होगा।
इसके बाद आपको वहां से Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana का आवेदन फॉर्म लेना होगा।
अब आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि आपका नाम, मोबाइल नंबर, पता आदि ध्यानपूर्वक दर्ज करनी होगी।
इसके बाद आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज आवेदन पत्र के साथ संलग्न करने होंगे।
अब आपको यह आवेदन पत्र कृषि विभाग में जमा करना होगा।
इसके बाद आपके द्वारा जमा किए गए दस्तावेजों का सत्यापन किया जाएगा।
सत्यापन के बाद लाभ की रकम किसान के खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें