Home उत्तर प्रदेश Covishield: अब तीन महीने बाद म‍िलेगी कोविशील्ड की दूसरी डोज, नए द‍िशा-न‍िर्देश...

Covishield: अब तीन महीने बाद म‍िलेगी कोविशील्ड की दूसरी डोज, नए द‍िशा-न‍िर्देश जारी

लखनऊ- HBN। Covishield वैक्सीन की पहली डोज ले चुके लोगों को अब दूसरी डोज के लिए तीन से चार महीने तक का इंतजार करना पड़ेगा। गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन की ओर से वैक्सीनेशन की नई पॉलिसी के तहत यह जानकारी दी गई। उसके बाद से ही दूसरी डोज के इंतजार में बैठे लोगों की चिंता बढ़ गई है। शुरुआत में कोविशील्ड लेने वाले लोगों को 28 दिन बाद दूसरी डोज दी जा रही थी। मगर करीब एक डेढ़ माह बाद इसे छह से आठ हफ्ते कर दिया गया था। अब वैक्सीन की किल्लत के बीच दूसरी डोज 12 से 16 हफ्ते के बीच दिए जाने का फरमान जारी हुआ है। इस फैसले को वैक्सीन की मौजूदा किल्लतों को दूर करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। हालांकि सरकार इसे देरी से दूसरी डोज लेने पर एंटीबॉडी ज्यादा मजबूती से बनने का तर्क दे रही है।

लखनऊ में अब तक Covishield करीब 6.75 लाख लोगों को पहली व दूसरी डोज दी जा चुकी है। इसमें साढ़े चार लाख से अधिक लोगों को कोविशील्ड (Covishield) दी गई है। करीब दो हफ्ते से राजधानी के निजी अस्पतालों व अधिकांश सीएचसी-पीएचसी पर वैक्सीनेशन बंद हो जाने से अचानक सिविल, बलरामपुर, लोकबंधु, लोहिया, बीआरडी, आरएलबी जैसे केंद्रों पर दूसरी डोज लेने वालों की भीड़ बढ़ने लगी थी। इस दौरान अक्सर रोजाना कई केंद्रों पर मारामारी की स्थिति पैदा हो रही थी। लोग एक केंद्र से दूसरे केंद्र पर दूसरी डोज पाने के लिए भटक रहे थे। इस परेशानी को दूर करने के बजाए नए निर्देश में दूसरी डोज के लिए भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य कर दिया गया। इससे लोगों को दूसरी डोज मिलनी मुश्किल हो गई। अब नए निर्देश के बाद दूसरी डोज वालों की मुश्किलें और बढ़ेंगी।

- Advertisment -

Most Popular

डीएम अविनाश कुमार, सीडीओ आकांक्षा राना समेत 126 महादानियों ने किया रक्तदान

हरदोई। अमर उजाला फाउंडेशन के तत्वावधान में बुधवार को आयोजित रक्तदान शिविर में 126 महादानियों ने रक्तदान कर समाज को जनहित में...

क्या है ‘ग्लू ग्रांट’ (Glue Grant) योजना व ‘मेटा विश्‍वविद्यालय’ (Meta University)अवधारण?

चालीस केंद्रीय विश्वविद्यालय अकादमिक क्रेडिट बैंक व यूजी पाठ्यक्रमों में बहु-विषयक (multidisciplinary) को प्रोत्साहित करने के लिए ग्लू ग्रांट (Glue Grant) जैसे...

रोजा-इफ्तार कराने वाले लगा रहे संगम में डुबकी:उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

हरदोई : रसखान प्रेक्षागृह में पांच अरब 96 करोड़ 95 लाख रुपये की 159 कार्यों की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करने...

65 बाघों का घर, पीलीभीत टाइगर रिजर्व, Pilibhit Tiger Reserve

पीलीभीत बाध अभयारण्य उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में स्थित है और 2014 में इसे टाइगर रिजर्व के रूप में अधिसूचित किया...

Recent Comments

Translate »