Home हरदोई हरदोई : 14 साल पहले घर छोड़ा, लौटा तो लग्जरी कार और...

हरदोई : 14 साल पहले घर छोड़ा, लौटा तो लग्जरी कार और ट्रकों का मालिक बनकर

हरदोई: पिता की डांट से नाराज होकर 12 साल की उम्र में घर से भागा रिकू, 14 साल बाद 26 वर्ष की आयु में गुरुप्रीत बनकर गांव लौटा। होली का तोहफा बनकर लौटे बेटे को देखते ही मां-बाप की आंखें खुशी से छलछला आईं। उसे देखकर गांव के लोग भी खुश हैं।

हरदोई और मलिहाबाद के बीच हुई स्पेशल ट्रेन पर ‘‘जहां 4 यार’’ की शूटिंग

फिरोजापुर निवासी सरजू खेतीबाड़ी करते हैं। चौथे नंबर के पुत्र रिकू को उन्होंने 2007 में डांट दिया था। इससे नाराज होकर वह घर से चला गया और फिर लौटकर नहीं आया। वर्षों वह रिकू के लौटने की राह देखते रहे, पर जब वह नहीं लौटा तो उन्होंने मना लिया कि शायद अब उनका पुत्र इस दुनिया में नहीं है।

हरदोई : ओम शिव त्रिपाठी ने JAM ऑल इंडिया रैंक 326 हासिल कर जिले का बढाया मान

शुक्रवार की शाम सरजू और सीता दरवाजे पर बैठे थे, उसी समय एक लग्जरी कार गुजरी और कुछ आगे जाकर लौट आई। कार से पगड़ी बांधे एक नौजवान सरदार नीचे उतरा। सरजू और सीता के उसने पैर छुए तो वे समझ नहीं पाए। युवक ने उन्हें माता पिता संबोधित करते हुए कहा कि वह उनका रिकू है। उन्हें अपनी आंखों पर भरोसा ही नहीं हुआ। धीरे धीरे बात गांव में फैली और काफी लोग जमा हो गए।

सरदार गुरुप्रीत सिंह बनकर लौटे रिकू ने खुद सभी को अपनी कहानी बताई। उसने बताया कि घर से भागकर ट्रेन से वह लुधियाना पहुंचा। वहीं पर भारत नगर चौक पर टीएस ट्रांसपोर्ट कंपनी में काम करने लगा। धीरे-धीरे उसने ड्राइवरी सीख ली और ट्रक चलाने लगा। अपनी मेहनत से वह आगे बढ़ता गया। खुद ट्रक खरीदा और लग्जरी कार भी ली। रिकू उर्फ गुरुप्रीत ने बताया कि वह पूरी तरह से सरदार बन गया।

वहीं पर रहने वाले गोरखपुर के परिवार की बेटी से प्रेम विवाह कर लिया। गुरुप्रीत उर्फ रिकू बताते हैं कि उसके एक ट्रक का धनबाद में एक्सीडेंट हो गया। उसी को छुड़ाने के लिए कार से वह जा रहा था। शुक्रवार की शाम हरदोई से गुजरा तो परिवार की याद आ गई और घर पहुंच गया।

डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें: देश और प्रदेश की लेटेस्ट ख़बरों के लिए अभी डाउनलोड करें HDI Bharat News App

मां सीता रिकू को सीने से लगाकर प्यार कर रहीं हैं और कहती हैं कि उससे यही गुजारिश कर रही हैं कि वह अपना काम धंधा भी करे, लेकिन अब जैसे वह पहले छोड़ कर गया ऐसा कोई काम ना करे। वहीं रिकू आर्थिक रूप से मजबूत है, उसके भाई गांव में काम करते हैं। कहता है कि वह माता-पिता व भाइयों को भी मजबूत करने का काम करेगा।

1 COMMENT

Comments are closed.

- Advertisment -

Most Popular

डीएम अविनाश कुमार, सीडीओ आकांक्षा राना समेत 126 महादानियों ने किया रक्तदान

हरदोई। अमर उजाला फाउंडेशन के तत्वावधान में बुधवार को आयोजित रक्तदान शिविर में 126 महादानियों ने रक्तदान कर समाज को जनहित में...

क्या है ‘ग्लू ग्रांट’ (Glue Grant) योजना व ‘मेटा विश्‍वविद्यालय’ (Meta University)अवधारण?

चालीस केंद्रीय विश्वविद्यालय अकादमिक क्रेडिट बैंक व यूजी पाठ्यक्रमों में बहु-विषयक (multidisciplinary) को प्रोत्साहित करने के लिए ग्लू ग्रांट (Glue Grant) जैसे...

रोजा-इफ्तार कराने वाले लगा रहे संगम में डुबकी:उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

हरदोई : रसखान प्रेक्षागृह में पांच अरब 96 करोड़ 95 लाख रुपये की 159 कार्यों की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करने...

65 बाघों का घर, पीलीभीत टाइगर रिजर्व, Pilibhit Tiger Reserve

पीलीभीत बाध अभयारण्य उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में स्थित है और 2014 में इसे टाइगर रिजर्व के रूप में अधिसूचित किया...

Recent Comments

Translate »