Homeहरदोईहरदोई में मनाया गया भारत माता पूजन कार्यक्रम, भारत माता की जय...

हरदोई में मनाया गया भारत माता पूजन कार्यक्रम, भारत माता की जय के जयकारे से गूँज उठा प्रांगण

हरदोई: नगर के बंसीनगर स्थित बाबा नागेश्वर नाथ मन्दिर का प्रांगण भारत माता की जय के जयकारे से गूँज उठा जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों ने भारत माता पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया.

इस अवसर पर उपस्थित स्वयंसेवकों को उद्बोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह प्रान्त प्रचारक मनोज ने कहा ने कहा हम अपने देश को भारत माता कहते हैं. इसी धरती में राम और कृष्ण जैसी विभूतियों ने जन्म लिया. राम ने न सिर्फ रावण जैसे आततायी का वध किया वरन शबरी के बेर खा कर समरसता का संदेश भी दिया.

ऐसी पावन धरती पर बहुत सी बर्बर विदेशी जातियों ने आक्रमण किये पर वे सभी जातियां भारतीय समाज और संस्कृति में रच बस गयीं. पर कालांतर में मुहम्मद गोरी ने बार बार आक्रमण करके देश की धर्म संस्कृति को तहस नहस करके का जो एक लंबा सिलसिला आरम्भ किया वो कई शताब्दियों तक चलता रहा. देश की जनता पर जजिया जैसा अमानवीय कर लाद दिए गया, कुम्भ जैसा महापर्व मनाने पर पाबंदियां लगा दी गयीं.

यहाँ तक तथाकथित महान राजा अकबर के शासन काल में कहा जाता था, जो दिल्ली का राजा वो सम्पूर्ण देश का राजा. ऐसे समय में तुलसीदास ने रामचरितमानस की रचना की रामलीला का मंचन किया और उद्घोष किया, “राजा रामचंद्र जी की जय’. तुलसी दास जी न सिर्फ संत थे, कवि थे वरन महान क्रांतिकारी भी थे.

उन्होंने आगे कहा कि मुगलों के उपरांत देश पर अंग्रेजो का शासन हुआ. शासन करने के लिए उन्होंने भारत माता को कई टुकड़ों में बांटा. जब १८५७ में जब स्वतंत्रता की क्रांति हुयी तो मंगल पांडे, रानी लक्ष्मी बाई तात्या टोपे जैसे अनेक महान क्रांतिकारी बलिदान हुए पर साथ ही लाखों क्रांतिकारी बलिवेदी पर चढ़ गए. देश की आज़ादी की लड़ाई में भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, उधम सिंह, आदि के साथ साथ जलियावाला बाग़ में सैकड़ों लोगों ने अपने प्राण की आहुति दी.

सुभाषचंद्र बोस ने जब नारा दिया तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा, हज़ारों लाखों लोग आज़ाद हिन्द फौज में भरती हो गए और २८००० अनाम सैनिकों ने अपनी जान देकर स्वतंत्रता आन्दोलन में अपना योगदान दिया. भारत माता पर बलिदान होने वाले ऐसे ही अनाम क्रांतिकारियों के प्रति, अपना सम्मान प्रकट करने के लिए उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करना हर भारतवासी का कर्त्तव्य है.

यह भी पढ़े: Oldest Mummy: मिस्र में खुदाई में मिली 4300 साल पुरानी ‘ममी’

उन्होंने आवाहन किया कि गाँव गाँव में भारत माता के पूजन करें. देश के अनाम क्रांतिकारियों के प्रति यही सच्ची श्रद्दांजलि होगी. कार्यक्रम का समापनं भारत माता की आरती के पश्चात प्रसाद वितरण के साथ हुआ.

भारत माता पूजन कार्यक्रम के अवसर पर सह प्रान्त प्रचारक मनोज के अतिरिक्त राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विभाग संघचालक शिवस्वरूप, विभाग प्रचारक कौशल, विभाग कार्यवाह सुशील, सह जिला कार्यवाह राम प्रताप, जिला सम्पर्क प्रमुख, नगर संघचालक मिथिलेश नगर कार्यवाह विनय नगर प्रचारक अमरेन्द्र सहित भारी संख्या में स्वयंसेवक और बड़ी संख्या में मातृ शक्ति सहित समाज के लोग उपस्थित रहे.

- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -

लेटेस्ट