Homeहरदोईहरदोई में कफ़ सीरप के आड़ में नशे का काला कारोबार, 5...

हरदोई में कफ़ सीरप के आड़ में नशे का काला कारोबार, 5 मेडिकल स्टोर के लाइसेंस निरस्त

हरदोई। उत्तर के हरदोई जिले में नशे के लिए फेंसेडिल कफ लिंक्टस सीरप को बेचने की पुष्टि होने के बाद बड़ी कार्रवाई हुई है। औषधि प्रशासन विभाग ने पांच मेडिकल स्टोर के लाइसेंस निरस्त कर दिए हैं।

व्हाटऐप चैनल से जुड़ें Join Now
टेलीग्राम चैनल से जुड़ें Join Now
गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें Follow

औषधि निरीक्षक स्वागतिका घोष ने बताया कि सीरप का दवा के रूप में कम और नशे के लिए ज्यादा उपयोग में लाने की जानकारी जुटाई गई। मेसर्स एबॉट हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड की ओर से जनपद के स्टॉकिस्टों की दी गयी सूचना पर 13 सितंबर 2023 को औषधि विभाग ने कई मेडिकल स्टोर पर छापा मारा था।

जिसमे हरदोई के स्टॉकिस्ट रेलवे गंज के मेसर्स बीके ट्रेडर्स और सदर बाजार के मेसर्स लक्ष्मी नरायण बाल किशन मेडिकल हाल का भी निरीक्षण किया गया था। जिसमे फर्म संचालकों ने बताया कि उन लोगों ने कोडिन युक्त सीरप की बिक्री मेसर्स जगन्नाथ इंटरप्राइजेज, मेसर्स बालाजी इंटरप्राइजेज, मेसर्स मॉ काली इंटरप्राइजेज, मेसर्स मां वैष्णों एजेंसी और मेसर्स जेएमडी एजेंसी को की है।

औषधि निरीक्षक ने बताया कि कोडिन युक्त सीरप की बिक्री नशे के लिए किए जाने की पुष्टि होने के बाद पांचों मेडिकल स्टोरों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं।

औषधि निरीक्षक स्वागतिका घोष ने बताया कि इन फर्मों ने मेडिकल स्टोर के लाइसेंस पर कोडिन युक्त सीरप का भंडारण और विक्री बड़ी मात्रा में की है। अन्य एलोपैथिक औषधियों की बिक्री और भंडारण नहीं किया गया। कोडिन युक्त सीरप को फर्जी अभिलेख बनाकर लखनऊ मंडल में बेचना दर्शाया गया।

लगभग 1 लाख बोतलों का कोई रिकॉर्ड नहीं

फर्म के कागजों के आधार पर कोडीन युक्त नशीली सीरप का क्रय विक्रय दिखा रही थी। जब औषधि निरीक्षक ने उन मेडिकल स्टोर्स पर जांच की तो पाया गया जिन जगहों पर फर्म ने विक्रय होना दिखाया है उन मेडिकल स्टोर पर वह सीरप पहुंचा ही नहीं यानी कूट रचित कागजों के सहारे क्रय विक्रय तो दिखाया जाता रहा लेकिन यह सीरप बॉर्डर के बाहर सप्लाई होते रहे। बताया जा रहा है कि100 एमएल की लगभग 1 लाख बोतलों का कोई रिकॉर्ड अभी तक नहीं मिला है।

औषधि निरीक्षक स्वागतिका घोष ने बताया कि हरदोई में नशे का कारोबार करने वाले टिंचर व्यापारियों पर वह पहले ही कार्यवाही कर चुकी हैं जिनको हाईकोर्ट तक से जमानत नहीं मिली है। अब यह कफ सीरप का मामला सामने आया है जिसका सिंडिकेट बहुत बड़ा है।

उन्होंने बताया यह मामला सिर्फ हरदोई से नहीं जुड़ा बल्कि आसपास के कई जनपदों से जुड़ा हुआ है और इसकी सप्लाई उनकी जानकारी के अनुसार बॉर्डर के बाहर तक होती है।

 

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें