होमविज्ञान/तकनीकChandrayaan-3: चांद की सतह से महज 25 KM दूर लैंडर विक्रम, लूना...

Chandrayaan-3: चांद की सतह से महज 25 KM दूर लैंडर विक्रम, लूना 25 में आई तकनीकी खराबी

चंद्रयान 3 मिशन ने डीबूस्टिंग का अंतिम चरण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। इसके बाद Chandrayaan-3 की चंद्रमा की सतह से दूरी सिर्फ 25 किलोमीटर रह गई थी. इसरो ने एक ट्वीट के जरिए इसकी घोषणा की. इसरो ने कहा कि लैंडर का आंतरिक परीक्षण पूरा हो चुका है और अब केवल निर्धारित चंद्र लैंडिंग स्थल पर सूर्योदय का इंतजार करना बाकी है। इसरो ने घोषणा की कि लैंडर 23 अगस्त, 2023 को शाम 5:45 बजे के आसपास चंद्रमा की सतह पर उतर सकता है।

Chandrayaan-3: इसरो कर रहा है सूरज निकलने का इंतजार

एक चंद्र दिवस पृथ्वी के 14 दिनों के बराबर होता है। चंद्रमा अभी रात है और 23 अगस्त को सूर्य उदय होगा। इसलिए दिन के वक्त चंद्रमा पर उतरने की कोशिश करेगा ताकि रोवर वहां बेहतर रिसर्च कर सके और बेहतर तस्वीरें भेज सके। भारत का Chandrayaan-3 मिशन चंद्रमा के पानी का अध्ययन करेगा और चंद्रमा की सतह पर रासायनिक विश्लेषण भी करेगा।

लूना 25 में आई तकनीकी खराबी

चंद्रमा पर Chandrayaan-3 की सफल लैंडिंग के साथ ही इसरो का नाम इतिहास में दर्ज हो जाएगा। अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत ऐसा करने वाला चौथा देश बन जायेगा। चंद्रयान-3 के अलावा रूसी अंतरिक्ष यान लूना-25 भी चंद्रमा की सतह पर उतरने की कोशिश करेगा. लूना 25 को 21 अगस्त को चंद्रमा की सतह पर उतरना है, लेकिन अब रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रोस्कोस्मोस ने बताया है कि लूना 25 में तकनीकी खराबी आ गई है। ऐसे में लूना-25 को चंद्रमा की सतह पर उतरने में दिक्कत हो सकती है।

Rojgar alert Banner
spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें