Homeखेल जगतSanju Samson ने IPL 2024 में Dhruv Jurel को जानबूझकर मौका नहीं...

Sanju Samson ने IPL 2024 में Dhruv Jurel को जानबूझकर मौका नहीं दिया

spot_img

फिलहाल IPL 2024 सीजन चल रहा है और इसमें खेलने वाले कई खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर खास नजर है क्योंकि इस टूर्नामेंट के ठीक बाद T20 World Cup 2024 शुरू होगा. टीम इंडिया के नजरिए से देखें तो पिछले एक साल में IPL से लेकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट तक ऐसे कई खिलाड़ी हैं जिन्होंने डेब्यू किया और प्रभावित किया। इन्हीं में से एक हैं युवा विकेटकीपर-बल्लेबाज Dhruv Jurel, जिन्हें T20 World Cup के लिए कीपर-बल्लेबाज (फिनिशर) की भूमिका का दावेदार माना जा रहा है, लेकिन मौजूदा IPL सीजन में उन्होंने कुछ खास कमाल नहीं दिखाया है और अचानक ये आरोप लगे हैं बनने लगा. कि राजस्थान रॉयल्स के कप्तान Sanju Samson जानबूझकर उन्हें मौके नहीं दे रहे हैं. अब सवाल ये है कि इन आरोपों में कितनी सच्चाई है?

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now
Google News Follow

Dhruv Jurel ने पिछले IPL सीजन में छोटी लेकिन तेज पारियां खेलकर एक प्रभावशाली खिलाड़ी के रूप में अपनी पहचान बनाई थी. उत्तर प्रदेश के इस विकेटकीपर बल्लेबाज को फरवरी-मार्च में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कीपर के तौर पर उतारा गया था, जहां वह चौथे टेस्ट में स्टार साबित हुए. इसके बाद से हर कोई उन्हें IPL और फिर T20 World Cup में देखने के लिए बेताब था, लेकिन अब तक वह ज्यादा नजर नहीं आए हैं.

Samson पर क्यों लग रहे हैं आरोप?

तो क्या इसकी वजह Sanju Samson हैं? सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि ऐसे आरोप क्यों लगाए जा रहे हैं? सोशल मीडिया पर कई यूजर्स Sanju Samson पर निशाना साध रहे हैं क्योंकि उनका मानना है कि Sanju T20 World Cup के लिए अपनी जगह पक्की करना चाहते हैं और ध्रुव से उनके लिए प्रतिस्पर्धा है. दरअसल, दोनों खिलाड़ियों को बतौर विकेटकीपर-बल्लेबाज और फिनिशर टीम इंडिया में जगह मिल सकती है. ऐसे में इस बात में दम है कि ये दोनों एक ही स्थान के लिए प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं.

तो क्या वाकई इस वजह से Sanju Dhruv Jurel को ज्यादा मौके नहीं दे रहे हैं? क्या वह वाकई अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए ऐसा कुछ कर रहे हैं? राजस्थान ने इस सीजन में अब तक 5 मैच खेले हैं और Dhruv सभी पांचों में प्लेइंग 11 का हिस्सा रहे हैं लेकिन Samson ने हर बार कीपिंग की है। लेकिन ये कोई नई बात नहीं है. जोस बटलर जैसा महान कीपर होने के बावजूद Samson ही यह जिम्मेदारी लेते हैं क्योंकि इससे उन्हें खेल को समझने में मदद मिलती है।

क्या वाकई ज्यूरेल को मौके नहीं मिल रहे?

अब बात करते हैं बल्लेबाजी की. सबसे पहले यह समझना जरूरी है कि बल्लेबाजी क्रम सिर्फ कप्तान ही नहीं बल्कि मुख्य कोच भी तय करता है. ऐसे में ज्यूरेल कब बल्लेबाजी करेंगे यह फैसला अकेले Samson का नहीं है. ज्यूरेल को इन 5 पारियों में से 3 में बल्लेबाजी करने का मौका मिला है, जिसमें उनका स्कोर 20 (12 गेंद), 20 (12 गेंद) और 2 (3 गेंद) रहा है। मुंबई इंडियंस और गुजरात टाइटंस के खिलाफ उनकी बल्लेबाजी नहीं आई। दरअसल सवाल उन दो मैचों की वजह से उठे थे, जिनमें टीम के शुरुआती विकेट जल्दी गिरने के बावजूद ज्यूरेल की जगह रविचंद्रन अश्विन को पांचवें नंबर पर प्रमोट किया गया था. इसमें से जुरेल ने फिर भी दिल्ली के खिलाफ बल्लेबाजी की और 20 रन बनाए लेकिन मुंबई के खिलाफ उन्हें मौका नहीं मिला और उससे पहले ही शुभम दुबे को भेज दिया गया.

लेकिन ज्यूरेल के साथ ऐसा करने की वजह क्या है? दरअसल, राजस्थान की टीम अपने बल्लेबाजी क्रम में तय भूमिकाओं के मुताबिक बल्लेबाजों को उतार रही है और इसमें ज्यूरेल की भूमिका एक फिनिशर की है, जो आखिरी ओवरों में तेज बल्लेबाजी कर सकता है। टीम इंडिया में भी ज्यूरेल की यही एकमात्र भूमिका है. अब अगर यह तर्क भी दिया जाए कि जुरेल को अश्विन से पहले भेजा जाना चाहिए था तो इसकी वजह अश्विन की दबाव झेलने की क्षमता है, जो उन्होंने दिल्ली और मुंबई के खिलाफ बहुत अच्छे से किया था.

ज्यूरेल ने मौके का फायदा उठाया?

इसके विपरीत दिल्ली के खिलाफ 14वें ओवर में बल्लेबाजी करने आए Dhruv 18वें ओवर में आउट हो गए, जबकि RCB के खिलाफ लक्ष्य का पीछा करते हुए जब 26 गेंदों में 29 रनों की जरूरत थी, तब क्रीज पर आए ज्यूरेल आउट हो गए. सिर्फ 3 गेंदें. गया। इसका मतलब साफ है कि ज्यूरेल तेजी से रन बनाने में सक्षम हैं लेकिन जब भी उन्हें लंबी पारी खेलने का मौका मिला तो वह इसमें असफल रहे. यानी ज्यूरेल को आखिरी ओवरों में जो फिनिशर की भूमिका मिली है, उसके हिसाब से उनका इस्तेमाल किया जा रहा है और उन्हें किसी भी तरह से रोकने की साजिश के आरोप बेबुनियाद लगते हैं.

spot_img
- Advertisment -spot_img

ताज़ा ख़बरें