Homeउत्तर प्रदेशअयोध्या प्राण प्रतिष्ठा: 2121 कुंडीय महायज्ञ में शामिल होंगे नेपाल के 21...

अयोध्या प्राण प्रतिष्ठा: 2121 कुंडीय महायज्ञ में शामिल होंगे नेपाल के 21 हजार पंडित

अयोध्या। श्रीराम लला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद रामनगरी में धार्मिक अनुष्ठानों की धूम रहेगी। इसी क्रम में सरयू तट पर 2121 कुंडीय श्रीराम महायज्ञ होगा। इसमें श्रीराम के वंशज कहे जाने वाले लगभग 10,000 रघुवंशी विभिन्न राज्यों से आकर आहुति डालेंगे।

व्हाटऐप चैनल से जुड़ें Join Now
टेलीग्राम चैनल से जुड़ें Join Now
गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें Follow

इस आयोजन को भव्य स्वरूप देने के लिए करीब एक माह से सरयू तट पर 60 एकड़ भूमि में हवन कुंड व टेंट सिटी बन रही है। उल्लेखनीय है कि अगस्त, 2019 में श्रीराम मंदिर मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में यह प्रश्र उभरा कि श्रीराम के वंशज कहां हैं। उस समय जयपुर राज परिवार की पूर्व राजकुमारी दीया कुमारी समेत कई पक्षों ने श्रीराम के पुत्र कुश व लव तक वंशावली जोड़कर स्वयं के राम के वंशज होने का दावा किया।

यह मामला सार्वजनिक होने पर रघुवंशी समाज से जुड़े मध्य प्रदेश के कनक बिहारी दास ने अयोध्या में श्रीराम के वंशजों को एकजुट कराने के मकसद से 9009 कुंडीय महायज्ञ कराने की घोषणा की । मणिराम दास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास ने उन्हें यज्ञ सम्राट की उपाधि से भी नवाजा था। यह संकल्प देश के सात राज्यों में प्रसारित हुआ तो इसी बीच वह गोलोक सिधार गए। अब इस संकल्प को पूरा करने के लिए उनके शिष्यों ने बीड़ा उठाया है।

सरयू तट पर होगा 2121 कुंडीय महायज्ञ

मध्य प्रदेश के अखंड रघुवंशी समाज कल्याण महापरिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष हरिशंकर सिंह रघुवंशी ने बताया कि अभी 10 से 18 फरवरी तक 2121 कुंडीय महायज्ञ सरयू तट पर होगा। इसमें संगठन के अलावा उत्तर प्रदेश, राजस्थान,मध्य प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, गुजरात व हिमाचल प्रदेश में फैले रघुवंशी समाज के लोग शामिल होंगे। नौ यजमानों का शुद्धीकरण होगा।

यज्ञ कराने के लिए बनारस से एक प्रधान आचार्य व 1,000 सहायक आचार्यों को आमंत्रित किया गया है। इसी परिसर में बने टेंट सिटी में लोग निवास करेंगे।

सरयू तट पर श्रीरामनाम महायज्ञ का भव्य आयोजन होने जा रहा है। यह वृहद अनुष्ठान संत आत्मानंद दास महात्यागी नेपाली बाबा के संयोजन में हो रहा है। इसके लिए 1008 नर्मदेश्वर शिवलिंग की स्थापना की जाएगी इसके लिए 1008 कुटी भी बनाई गई है। यहां 11 मंजिल का यज्ञ मंडप बनाया गया है, जिसमें 100 कुंड है।

महायज्ञ में शामिल होंगे नेपाल के 21 हजार पंडित

यज्ञ में नेपाल के 21 हजार पंडित सम्मिलित होंगे। 17 से रामायण के 24 हजार श्लोकों से हवन शुरू होगा,जो 25 जनवरी तक चलेगा। नेपाली बाबा ने बताया कि हर दिन 50 हजार श्रद्धालुओं के रुकने का इंतजाम किया जा रहा है। इसके साथ ही हर दिन करीब एक लाख श्रद्धालु यहां भोजन करेंगे। जोर शोर से तैयारियां चल रहीं हैं।

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें