Home देश 38 साल बाद मिला लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर, ग्लेशियर की...

38 साल बाद मिला लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर, ग्लेशियर की चपेट में आने से हुए थे शहीद

भारत और पाकिस्तान के बीच सियाचिन को लेकर हुई झड़प में  शामिल रहे 19 कुमाऊं रेजीमेंट के लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर 38 साल बाद सियाचिन में मिला है। इसकी सूचना सेना की ओर से उनके परिजनों को दी गई है। बताया जा रहा है कि सोमवार को उनका पार्थिव शरीर हल्द्वानी लाया जाएगा। इसके बाद सैनिक सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया जाएगा। 

मूल रूप से अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट के हाथीगुर बिंता निवासी चंद्रशेखर हर्बोला 19 कुमाऊं रेजीमेंट में लांसनायक थे। वह 1975 में सेना में भर्ती हुए थे। 1984 में भारत और पाकिस्तान के बीच सियाचिन के लिए युद्ध लड़ा गया था। भारत ने इस मिशन का नाम ऑपरेशन मेघदूत रखा था। 

भारत की ओर से मई 1984 में सियाचिन में पेट्रोलिंग के लिए 20 सैनिकों की टुकड़ी भेजी गई थी। इसमें लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला भी शामिल थे। सभी सैनिक सियाचिन में ग्लेशियर टूटने की वजह से इसकी चपेट में आ गए जिसके बाद किसी भी सैनिक के बचने की उम्मीद नहीं रही। 

भारत सरकार और सेना की ओर से सैनिकों को ढूंढने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया गया। इसमें 15 सैनिकों के पार्थिव शरीर मिल गए थे लेकिन पांच सैनिकों का पता नहीं चल सका था। रविवार को रानीखेत स्थित सैनिक ग्रुप केंद्र की ओर से शहीद चंद्रशेखर हर्बोला के परिजनों को सूचना भेजी गई कि उनका पार्थिव शरीर सियाचिन में मिला है। उनके साथ एक और सैनिक का पार्थिव शरीर मिलने का सूचना मिली है।

शहीद लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का परिवार

38 साल बाद भी बर्फ से सुरक्षित मिला चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर, हाथ में बंधे ब्रेसलेट से हुई पहचान

उत्तराखंड निवासी 19 कुमाऊं रेजीमेंट के लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर 38 साल बाद भी सुरक्षित है। परिजनों ने बताया कि अभी तक उन्हें जो जानकारी मिली है उसके अनुसार शहीद की पार्थिव देह अब भी सुरक्षित अवस्था में है। सियाचिन में बर्फ में दबे रहने की वजह से शहीद की पार्थिव देह को नुकसान नहीं हुआ है। 

शहीद चंद्रशेखर का जब शव मिला तो उनकी पहचान के लिए उनके हाथ में बंधे ब्रेसलेट का सहारा लिया गया। इसमें उनका बैच नंबर और अन्य जरूरी जानकारी दर्ज थीं। बैच नंबर से सैनिक के बारे में पूरी जानकारी मिल जाती है। इसके बाद उनके परिजनों को सूचना दी गई। 

लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला की पत्नी बोली- विश्वास था अंतिम दर्शन जरूर करूंगी

शहीद चंद्रशेखर हर्बोला की पत्नी शांति देवी ने अपने पति के पार्थिव शरीर का इंतजार 38 साल किया है। उन्हें इस बात का विश्वास था कि वह अपने पति के पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन जरूर करेंगी। शांति देवी ने बताया कि जब उनके पति शहीद हुए तब उनकी (शांति देवी की) उम्र सिर्फ 28 साल थी। कम उम्र में ही उन्होंने जीवनसाथी को खो दिया और दोनों बेटियों को मां और पिता बनकर पाला। इस दौरान सेना की ओर से उन्हें पूरी मदद दी गई जिस वजह से परिवार के पालन पोषण में उन्हें काफी मदद मिली।

38 साल बाद सियाचिन में शहीद सैनिक का पार्थिव शरीर मिलने की सूचना मिल रही है। उनके परिवारजन से मिलकर शोक संवेदना व्यक्त की गई है। साथ ही शहीद के राजकीय सम्मान में प्रशासन की ओर से होने वाली सभी भूमिकाओं का निर्वहन किया जाएगा। प्रशासन सेना और शहीद के परिवार के लगातार संपर्क में है।
 – मनीष कुमार सिंह, एसडीएम, हल्द्वानी  

यह भी पढ़े : स्वतंत्रता दिवस: राष्ट्रगान के लिए रुक गया ट्रैफिक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया ध्वजारोहण

Most Popular

ट्रैक्टर-ट्राली पलटने से 27 लोगो की मौत, कई गंभीर रूप से घायल, प्रधानमंत्री मोदी ने जताया दुःख

कानपुर: घाटमपुर क्षेत्र में बड़ा हादसा हो गया है। भीतरगांव के भदेउना गांव के पास श्रद्धालुओं से भरा ट्रैक्टर-ट्राली अनियंत्रित होकर पलट...

जाको राखे साइयां, मार सके न कोय: 5 मंजिल से गिरा अरमान और उसे कुछ नहीं हुआ

हरदोई: एक कहावत है, जाको राखे साइयां, मार सके न कोय। आज हरदोई जिले में ये कहावत चरितार्थ होती दिखी है। हरदोई...

स्वच्छ भारत अभियान 2.0 का शुभारंभ कलेक्ट्रेट परिसर में किया गयाः-जिलाधिकारी

हरदोई: नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में स्वच्छ भारत अभियान 2.0 का शुभारंभ कलेक्ट्रेट परिसर में जिलाधिकारी एम.पी. सिंह द्वारा किया गया।...

हरदोई: दो घण्टे चले ऑपरेशन से बच्चेदानी एवं 6 इंच बड़े ट्यूमर को निकाला

हरदोई: हरदोई मेडिकल कालेज के डाक्टरों की टीम ने लगभग दो घण्टे चले जटिल ऑपरेशन करके एक महिला की बच्चेदानी एवं ट्यूमर...