Home विज्ञान/तकनीक Artemis 1: NASA का सबसे शक्तिशाली रॉकेट लॉन्च के लिए तैयार, अंतरिक्ष...

Artemis 1: NASA का सबसे शक्तिशाली रॉकेट लॉन्च के लिए तैयार, अंतरिक्ष के लिए आज भरेगा उड़ान

अमेरिकन स्पेस एजेंसी NASA का अब तक का सबसे शक्तिशाली स्पेस रॉकेट Artemis 1 पृथ्वी से अंतरिक्ष में जाने के लिए तैयार है. नासा 50 साल बाद इंसानों को चांद पर भेजने की तैयारी कर रहा है. 1972 के बाद चांद पर मानव एक बार फिर अपने कदम रखेगा. इसी कवायद में, नासा Artemis 1 मिशन के तहत अपनी पहली टेस्ट फ्लाइट अंतरिक्ष में भेज रहा है. 

यह स्पेसक्राफ्ट सोमवार को अपने फ्लोरिडा लॉन्चपैड से ये रॉकेट उड़ान भरेगा. amArtemis 1, मिशन के अंतर्गत ओरियन स्पेसक्राफ्ट को भेजा जाएगा, जिसमें सबसे ऊपर 6 लोगों के बैठने के लिए डीप-स्पेस एक्सप्लोरेशन कैप्सूल है. इसमें 322 फीट लंबा 2,600 टन वजन वाला स्पेस लॉन्च सिस्टम (SLS) मेगारॉकेट होगा. यह रॉकेट सोमवार सुबह 8.33 बजे अपने पहले लिफ्टऑफ के लिए तैयार है.

इसे फ्लोरिडा के उसी केप कैनावेरल लॉन्च कॉम्प्लेक्स से लॉन्च किया जाएगा, जहां से 50 साल पहले अपोलो लूनर मिशन (Apollo Lunar Mission) को लॉन्च किया गया था.

स्पेसक्राफ्ट Artemis 1 में क्रू मेम्बर नहीं, अभी डमी जाएंगे

चांद पर इंसानों को भेजने से पहले यह एक टेस्ट है. फिलहाल इसमें कोई क्रू नहीं जा रहा है. ओरियन में इंसानों की जगह डमी को बैठाया जा रहा है. इससे नासा नेक्स्ट जेनेरेशन स्पेससूट और रेडिएशन लेवल का मूल्यांकन करेगा. पुतलों के साथ स्नूपी सॉफ्ट टॉय को भी भेजा जा रहा है, जो कैप्सूल के चारों ओर तैरेगा और ज़ीरो ग्रैविटी इंडिकेटर के तौर पर काम करेगा. ओरियन, चंद्रमा के चारों ओर करीब 42 दिन की लंबी यात्रा करेगा.

अगर यह मिशन सफल होता है, तो 2025 के अंत तक चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर पहली महिला और दो अंतरिक्ष यात्रियों को उतारा जाएगा. दूसी टेस्ट फ्लाइट Artemis II, मई 2024 के लिए निर्धारित है, जो 4 लोगों को लेकर चंद्रमा के पीछे लेकर जाएगी, ये चांद पर लैंडिंग नहीं करेगा. 

नासा के अधिकारी और स्पेस शटल के पूर्व एस्ट्रोनॉट बिल नेल्सन का कहना है कि इस फ्लाइट में मिशन के मैनेजर रॉकेट की क्षमताओं को टेस्ट करेंगे, ताकि ये पक्का हो सके कि उड़ान अंतरिक्ष यात्रियों के लिए सुरक्षित है.

ओरियन, अंतरिक्ष स्टेशन पर डॉक किए बिना लंबे समय तक अंतरिक्ष में रहने वाला पहला स्पेसक्राफ्ट होगा. ये अक्टूबर के मध्य में वापसी करेगा. चांद के करीब जाने, वहां 42 दिन बिताने और पृथ्वी पर वापस लौटने में ये स्पेसक्राफ्ट 60,000 किलोमीटर की यात्रा करेगा.

Most Popular

ट्रैक्टर-ट्राली पलटने से 27 लोगो की मौत, कई गंभीर रूप से घायल, प्रधानमंत्री मोदी ने जताया दुःख

कानपुर: घाटमपुर क्षेत्र में बड़ा हादसा हो गया है। भीतरगांव के भदेउना गांव के पास श्रद्धालुओं से भरा ट्रैक्टर-ट्राली अनियंत्रित होकर पलट...

जाको राखे साइयां, मार सके न कोय: 5 मंजिल से गिरा अरमान और उसे कुछ नहीं हुआ

हरदोई: एक कहावत है, जाको राखे साइयां, मार सके न कोय। आज हरदोई जिले में ये कहावत चरितार्थ होती दिखी है। हरदोई...

स्वच्छ भारत अभियान 2.0 का शुभारंभ कलेक्ट्रेट परिसर में किया गयाः-जिलाधिकारी

हरदोई: नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में स्वच्छ भारत अभियान 2.0 का शुभारंभ कलेक्ट्रेट परिसर में जिलाधिकारी एम.पी. सिंह द्वारा किया गया।...

हरदोई: दो घण्टे चले ऑपरेशन से बच्चेदानी एवं 6 इंच बड़े ट्यूमर को निकाला

हरदोई: हरदोई मेडिकल कालेज के डाक्टरों की टीम ने लगभग दो घण्टे चले जटिल ऑपरेशन करके एक महिला की बच्चेदानी एवं ट्यूमर...