Home लाइफ स्टाइल मरने से ठीक पहले कैसा महसूस करता है इंसान? मौत देने लगती...

मरने से ठीक पहले कैसा महसूस करता है इंसान? मौत देने लगती है ये संकेत

जब कोई मरने लगता है तो कैसा लगता है? इस बारे में शायद ही कोई अपनी राय दे सके क्योंकि इस विषय पर सिर्फ वही बता सकता है, जिसने मौत का अनुभव किया हो. हाल ही में एक एक्सपर्ट ने बताया कि मरने से पहले क्या होता है और कैसा लगता है? द एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, एक डॉक्टर जिन्होंने अपनी लाइफ में कई लोगों को मरते हुए देखा है उन्होंने बताया है कि मरने से ठीक पहले इंसान के शरीर में क्या बदलाव आने लगते हैं. इस बारे में वैज्ञानिक भी काफी कम जानते हैं. 

दो हफ्ते पहले शुरू होती है मरने की प्रक्रिया

Themirror की रिपोर्ट के मुताबिक, प्राकृतिक घटनाओं पर काफी कम स्टडीज मौजूद हैं. मौत से पहले कैसा लगता है, इस बारे में बात करते हुए एक डॉक्टर का कहना है कि मरने की प्रक्रिया आमतौर पर दिल की धड़कन बंद होने से लगभग दो सप्ताह पहले शुरू हो जाती है.

लिवरपूल यूनिवर्सिटी में मानद रिसर्च फेलो सीमस कोयल (Seamus Coyle) ने द कन्वर्सेशन के लिए लिखे आर्टिकल में मरने की प्रक्रिया के बारे में बात की. उन्होंने कहा “मुझे लगता है कि मरने की प्रक्रिया किसी भी व्यक्ति के मरने के दो सप्ताह पहले ही शुरू हो जाती है. इस दौरान लोगों की सेहत कमजोर होने लगती है. उन्हें चलने और सोने में भी परेशानी होने लगती है. जीवन के अंतिम दिनों में उनकी गोलियां खाने, भोजन करने या कुछ पीने की क्षमता भी खत्म हो जाती है.”

सीमय कोयल आगे कहते हैं “यह उस समय के आसपास का समय होता है जब लोग कहते हैं कि सामने वाला मर रहा है और उसके पास जीने के लिए दो से तीन दिन ही बाकी रहते हैं. कई लोगों को यह पूरी प्रक्रिया एक दिन में भी देखने मिलती है और कुछ लोग वास्तव में मरने से पहले लगभग एक-दो सप्ताह तक मृत्यु की कगार पर रह सकते हैं. इस दौरान उनके परिवार वालों को काफी कष्ट भी हो सकता है. 

मृत्यु के समय शरीर में ये होता है

मृत्यु के समय शरीर में क्या होता है, यह बात काफी हद तक अज्ञात है लेकिन कुछ रिसर्च का अनुमान है कि मृत्यु के समय मस्तिष्क से काफी सारे केमिकल निकलते हैं, जिनमें एंडोर्फिन भी शामिल होता है. यह किसी भी व्यक्ति की भावनाओं को उत्तेजित करता है. 

सीमस कोयल के मुताबिक, मृत्यु के क्षणों को समझना मुश्किल है लेकिन अभी तक हुई रिसर्च के मुताबिक, जैसे-जैसे लोग मृत्यु के करीब आते हैं, शरीर के स्ट्रेस केमिकल्स में वृद्धि होती है. कैंसर वाले और शायद अन्य लोगों के शरीर में सूजन भी आने लगती है. ये ऐसे रसायन हैं जो तब बढ़ते हैं जब शरीर किसी वायरल से लड़ रहा होता है.

सामान्य तौर पर ऐसा लगता है कि मरने की प्रक्रिया के दौरान लोगों का दर्द कम हो जाता है लेकिन हम नहीं जानते ऐसा क्यों होता है? यह एंडोर्फिन से भी संबंधित हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Hardoi News: विकास कार्यों का राज्यमंत्री रजनी तिवारी ने किया लोकार्पण

विपुल मिश्रापिहानी/हरदोई: उच्चशिक्षा राज्य मंत्री रजनी तिवारी ने ब्लाक कार्यालय पर क्षेत्र पंचायत द्वारा कराए गए विकास कार्यों का लोकार्पण किया। कार्यक्रम...

Hardoi News: शादी का झांसा देकर छात्रा का शारीरिक शोषण करने का आरोप,रिपोर्ट दर्ज

कछौना/हरदोई: कोतवाली क्षेत्र के एक युवक पर छात्रा ने शादी का झांसा देकर शारीरिक शोषण करने का आरोप लगाया। पीड़िता की तहरीर...

WhatsApp : व्हाट्सएप ने 2.38 करोड़ खातों पर लगाई रोक

50 करोड़ से ज्यादा भारतीय व्हाट्सएप इस्तेमाल करते हैं। 2011 की जनगणना के लिहाज से देखें तो 108 करोड़ की वयस्क आबादी...

निरीक्षक, उपनिरीक्षक सहित 7 का तबादला, रंन्धा सिंह थानाध्यक्ष बेहटा गोकुल तो ओम प्रकाश सिंह बने थानाध्यक्ष सुरसा

हरदोई: एसपी ने तीन निरीक्षक व चार उपनिरीक्षकों का तबादला किया है। कानून व्यवस्था अधिक सुदृढ़ बनाए रखने को लेकर एसपी ने निरीक्षक,...
close