Home धर्म Raksha Bandhan 2022: इस दिन ना करें राखी बांधने की गलती, किस...

Raksha Bandhan 2022: इस दिन ना करें राखी बांधने की गलती, किस दिन बांधे राखी

Raksha Bandhan 2022: रक्षाबंधन का पर्व आने में कुछ ही दिन बाकी हैं, लेकिन लोग इसकी डेट को लेकर काफी कंफ्यूज हैं. कुछ लोगों का मानना है कि राखी 11 अगस्त को बांधी जाएगी. वहीं, कुछ का मानना है कि 11 अगस्त 2022 को भद्रा काल होने के कारण राखी का त्योहार 12 अगस्त 2022 को शुक्रवार के दिन मनाया जाएगा. तोआइए जानते हैं कि किस दिन राखी बांधना ज्यादा सही है.

Agniveer Admit Card 2022: अग्निवीर भर्ती के एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड

विद्वानों का मानना है कि जब भद्रा पाताल में होती है तो इस दौरान राखी बांधी जा सकती है. ऐसा करना शुभ फलदायी माना जाता है. विद्वान कहने है कि 11 अगस्त 2022 को 10 बजकर 37 मिनट के बाद पूर्णिमा तिथि लग जाएगी, पूर्णिमा तिथि में ही रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाता है. इसके साथ ही शुक्ल यजुर्वेदी ब्राह्मणों का उपाक्रम संस्कार भी 11 अगस्त को ही किया जाएगा. 

क्यों है रक्षाबंधन की 11 और 12 तिथि को लेकर कंफ्यूजन

आचार्यों का कहना है कि अगर तिथियों का अवलोकन किया जाए तो एकादशी, त्रयोदशी और पूर्णमासी आदि तिथि पर भद्रा रहती ही है. उन्होंने बताया कि भद्रा के विषय में एक बात है जिसके बारे में लोगों के पास जानकारी नहीं है कि भद्रा का वर्णन वास्तु शास्त्र में किया गया है. कुंभ, मीन, कर्क और सिंह में चंद्रमा हो तो भद्रा का वास मृत्यु लोक यानी पृथ्वी पर माना जाता है. इसके अलावा मेष, वृष, मिथुन ,वृश्चिक में चंद्रमा होने पर भद्रा का वास स्वर्ग लोक में होता है.

वहीं, कन्या, तुला और धनु में चंद्रमा होने पर भद्रा का वास पाताल लोक में माना जाता है. ऐसे में भद्रा अगर पाताल लोक में हो या स्वर्ग लोक में यह काफी शुभ फलदायी माना जाता है. ऐसे में 11 अगस्त 2022 को भद्रा पाताल लोक में है जिसके चलते आप बिना किसी दिक्कत के 11 अगस्त को रक्षा बंधन का त्योहार मना सकते हैं और सुबह 10 बजकर 37 मिनट के बाद भाइयों को रक्षा सूत्र बांध सकते हैं. भद्रा के पाताल लोक में होने के कारण वह आपको किसी भी तरह का कष्ट नहीं देगी.

Har Har Shambhu : हर हर शंभू सिंगर के नाम पर फैलाया जा रहा झूठ, ओरिजिनल क्रिएटर्स ने कहा फरमानी नाज माफीनामा जारी करें नहीं तो कानून का सहारा लूंगा

विद्वान कहते है कि भद्रा अगर धरती लोक पर भी होती है तब भी उसके मुख और पूंछ का समय देखा जाता है. भद्रा के मुख के समय पर राखी नहीं बांधी जाती लेकिन आप पूंछ के समय पर राखी बांध सकते हैं, यह शुभ फलदायी माना जाता है और इससे कोई दिक्कत भी नहीं होती.

12 तारीख को सुबह 7 बजे के आसपास पूर्णिमा तिथि समाप्त होकर प्रतिपदा तिथि लग जाएगी. प्रतिपदा तिथि में राखी नहीं बांधी जाती है. ऐसे में इस साल रक्षा बंधन का पर्व 11 अगस्त 2022 गुरुवार के दिन ही मनाया जाएगा. भद्रा पाताल लोक में होने की वजह से शुभ फलदायी साबित होगी. 

रक्षाबंधन पर भद्रा काल का समय 

रक्षा बंधन भद्रा अन्त समय – रात  08 बजकर 51 मिनट पर
रक्षा बंधन भद्रा पूँछ – शाम  05 बजकर 17 मिनट से 06 बजकर 18 मिनट पर 
रक्षा बंधन भद्रा मुख – शाम 06 बजकर 18 मिनट से लेकर 08 बजे तक

11 अगस्त को इतने बजे के बाद बांधें राखी (Raksha Bandhan 2022 Shubh Muhurat)

पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 37 मिनट से शुरू होकर 12 अगस्त को सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर समाप्त होगी. ऐसे में पूर्णिमा तिथि 11 को पूरा दिन है. ऐसे में आप 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 37 मिनट के बाद राखी का त्योहार मना सकते हैं.

यह भी पढ़ें: 
आजमगढ़ : ISIS का संदिग्ध गिरफ्तार, मिला IED बनाने का सामान, 15 अगस्त पर थी धमाके की साजिश
Hardoi News: मजदूर की पीट-पीटकर हत्या, पुलिस अधीक्षक घटनास्थल पर पहुंचे
Gorakhpur news : पत्नी का गला रेतकर युवक ने खुद का भी काटा गला

Most Popular

हरदोईः दुष्कर्म के दोषी को 14 वर्ष का कारावास, 50,000 रुपये का अर्थदंड

हरदोई: न्यायालय अपर सत्र न्यायाधीश हेमेंद्र कुमार सिंह ने बालिका के साथ दुष्कर्म करने वाले शकील को 14 वर्ष के कारावास...

UP SSSC: अवर सहायक और पूर्ति निरीक्षक परीक्षा भर्ती परिणाम घोषित

उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UP SSSC) ने प्रवर सहायक, अवर सहायक और पूर्ति निरीक्षक भर्ती परीक्षा का परिणाम घोषित किया...

कलयुगी माँ प्यार में इस कदर हुई अंधी, प्रेमी के हाथों करा दिया बेटे का कत्ल

बदायूं: जिले से रिश्तों को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। जहां एक कलयुगी माँ ने प्यार में अंधी होकर बाधा...

हरदोई: जिलाधिकारी ने कहा अवैध खनन को बिल्कुल भी बर्दाश्त नही किया जाएगा

हरदोई:आज कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी एमपी सिंह की अध्यक्षता में प्रवर्तन से संबंधित बैठक हुई। उन्होंने निर्देश दिए कि पेट्रोल पंपों पर...