Homeहरदोईफर्जीवाड़ा: जिन्दा महिला को मृत दिखाकर करा ली वरासत, गवाहों समेत 3...

फर्जीवाड़ा: जिन्दा महिला को मृत दिखाकर करा ली वरासत, गवाहों समेत 3 पर रिपोर्ट

शाहाबाद/हरदोई: हरदोई जिले में एक फर्जीवाड़ा का मामला सामने आया है जिसमे जीवित महिला को मृत दिखाकर फर्जी दस्तावेजों की सहायता से वरासत करा ले गयी। तहसीलदार के पेशकार द्वारा दी गई तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने तीन लोगों के विरुद्ध धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है।

सीतापुर जिले के बमोरा गांव की रहने वाली कृष्णा देवी पत्नी अमरपाल सिंह के नाम पर तहसील सदर क्षेत्र के रैगाई में 45 बीघा भूमि है। इस भूमि की देखरेख उनकी बेटी संगीता करतीं हैं। जब संगीता ने खतौनी निकलवाई तो उसमें उनकी मां कृष्णा देवी के जगह पर सीतापुर जिले की महोली तहसील के गोड़वा गांव रहने वाले वीरेंद्र सिंह पुत्र बाबू सिंह का नाम दर्ज मिला।

फर्जीवाड़ा: खुद को बेटा बताया

जब संगीता ने जानकारी की तो, पता चला कि उनकी मां को मृत दिखाकर वीरेंद्र सिंह ने फर्जीवाड़ा करके खुद को उनका पुत्र बताते हुए वरासत करा ली है। 21 अक्टूबर को संगीता ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र दिया। जिलाधिकारी के आदेश पर तहसीलदार नरेंद्र कुमार ने जब जांच की तो, सारी सच्चाई सामने आ गयी।

तहसीलदार नरेंद्र कुमार ने बताया कि जांच में पता चला कि वीरेंद्र सिंह ने फर्जीवाड़ा करके खुद को मृतका का उत्तराधिकारी बताते हुए 8 अगस्त को उनके न्यायालय में वरासत का वाद दायर किया था। वीरेंद्र सिंह की ओर से दिए गए साक्ष्यों के आधार पर 14 सितंबर को उनका नाम खतौनी में चढ़ गया।

जब जिलाधिकारी के आदेश पर जांच की गयी तो वास्तविक भूमि की मालकिन कृष्णा सिंह लखनऊ के गोमतीनगर स्थित घर में जीवित मिलीं। उसके बाद वरासत खारिज कर दी गई है। फर्जी वरासत कराने वाले वीरेंद्र सिंह, न्यायालय में गवाही देने वाले बंदरहा रहने वाले संजीव कुमार व कपिल देव के विरुद्ध उनके पेशकार भूपेंद्र गंगवार ने कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

एसडीएम पूनम भास्कर ने बताया कि फर्जीवाड़ा में गलत रिपोर्ट लगाने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। कोतवाल राजदेव मिश्रा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। इस पूरे मामले में राजस्व अधिकारियों की भूमिका भी शक के घेरे में है।

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें

You cannot copy content of this page