Homeउन्नावउन्नाव में बड़ा हादसा: एक साथ 4 भाई-बहनों की मौत, मां बोली-...

उन्नाव में बड़ा हादसा: एक साथ 4 भाई-बहनों की मौत, मां बोली- मेरी दुनिया उजड़ गई

उन्नाव: जिले के बीघापुर में बिजली का करंट लगने से एक परिवार वीरान हो गया है। एक साथ घर के चारों चिराग एक साथ बुझ गए। वीरेंद्र कुमार और शिवदेवी के चार बच्चे और चारों की एक साथ मौत होने से वह दोनों बिलकुल टूट गये हैं। बच्चों के पढ़ाने और लायक बनाने के लिए दोनों रात दिन खेती के साथ मजदूरी करते थे।

व्हाटऐप चैनल से जुड़ें Join Now
टेलीग्राम चैनल से जुड़ें Join Now
गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें Follow

तीन बच्चों को प्राइमरी स्कूल में पढ़ने भेजते थे। रोजाना बच्चे स्कूल चले जाते थे तो वह छोटी बेटी मांशी को अपने साथ लेकर खेत चले जाते थे। रविवार को स्कूल में छुट्टी होने से उसे भी साथ नहीं ले गए थे। सभी बच्चों की मौत से परिजन ही नहीं पूरा गांव बिलख रहा है। जिसे भी घटना की जानकारी हुई आंखों से आंसू छलक पड़े।

मौत खींच ले गई

आसपास के लोगों ने बताया कि शाम को बच्चे मिट्टी के खिलौने बना रहे थे। अचानक मयंक उठा और पंखा चलाने चला गया। करीब दस मिनट तक वह नहीं आया तो अन्य भाई बहन भी खिलौने छोड़कर उसे बुलाने पहुंच गए। इसी दौरान सभी करंट की चपेट में आए और सभी भी मौत हो गई।

वीरेंद्र के पिता की एक महीने पहले बीमारी से मौत हो गई थी। पिता की मौत का गम परिजन भूल भी न पाए थे कि एक साथ चारों बच्चों की मौत से दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। चारों बच्चों के शव देख मां शिवदेवी रोते-रोते बहोश हो रही है।

जब भी होश में आती यही कहती ससुर थे तो यह दिक्कत नहीं थी। वह बच्चों को देखे रहते थे। उनके जाते ही पूरा परिवार उजड़ गया। अब कौन मां और पिता कहके बुलाएगा। कौन बाजार से सामान लाने की जिद करेगा। सभी उसे ढांढस बंधा रहे थे।

वैध मिला कनेक्शन

घटना की सूचना पर विधायक आशुतोष शुक्ला, एडीएम नरेंद्र कुमार, एएसपी शशिशेखर और सीओ माया राय देर शाम मौके पर पहुंची और परिजनों को ढांढस बंधाया। विधायक ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया। करंट से मौत की सूचना पर अवर अभियंता आशीष गुप्ता मौके पर पहुंचे और कनेक्शन की जांच की तो वह वैध मिला है।

कौन पुकारेगा मां

वीरेंद्र कुमार और उनकी पत्नी शिवदेवी जब भी काम से घर लौटकर आते थे बच्चे देखकर खुश हो जाते थे। अक्सर गले में लिपट जाते थे। इससे पूरे दिन के काम का दर्द वह भूलकर बच्चों में मगन हो जाते थे। लेकिन एक ही झटके में विधाता ने उसके चारों बच्चे हमेशा के लिए छीन लिए।

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें