HomeहरदोईHardoi news: शिक्षामित्रों ने किया प्रदर्शन, 5 सूत्रीय मांगो को लेकर जिला...

Hardoi news: शिक्षामित्रों ने किया प्रदर्शन, 5 सूत्रीय मांगो को लेकर जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन

हरदोई। यूपी प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ ने 5 सूत्रीय मांगो को लेकर प्रदर्शन किया है। शिक्षामित्रों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा है। इस ज्ञापन में शिक्षामित्रों ने समायोजन की मांग की है और पूर्व में हुई गलतियों को माफ करने की प्रार्थना की है।

ब्लॉक अध्यक्ष इरफान अली ने सिटी मजिस्ट्रेट को 5 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा है। जिसमें उन्होंने मांग की है कि अल्प वेतन दिया जा रहा है और जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ गई है। इसलिए शिक्षा मित्रों की तरफ सरकार को ध्यान देना चाहिए। शिक्षामित्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि शिक्षामित्रो की मांगों का जल्द ही निस्तारण किया जाएगा। लेकिन अभी तक उनकी मांगों का निस्तारण नहीं किया गया है।

इसलिए प्रधानमंत्री के वादे को याद दिलाने के लिए वह प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी शिक्षामित्र करीब 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके हैं। वर्तमान में शिक्षामित्रो को 10हजार प्रति माह मानदेय सिर्फ 11 माह का प्राप्त होता है। जो कि इस महंगाई के दौर में दैनिक खर्च के लिए भी कम है।

नियमावली में संशोधन करते हुए शिक्षामित्रों को पुन: समायोजित करने की मांग की

शिक्षामित्रों ने मांग करते हुए कहा कि नियमावली में संशोधन करते हुए शिक्षामित्रों को पुन: समायोजित और नियमित किया जाए। नई शिक्षा नीति में शिक्षामित्रो को भी सम्मिलित करते हुए उनका भविष्य सुरक्षित किया जाए। नियमितीकरण/ समायोजन प्रक्रिया पूर्ण होने तक शिक्षामित्रों को 62 वर्ष तक 12 माह का जीवन यापन लायक वेतन दिया जाए।

मृतक शिक्षामित्रो के परिजनों को सहायता राशि उनके आश्रितों को जीविकोपार्जन हेतु नियुक्त प्रदान की जाए। टीईटी पास शिक्षामित्रों को नियमावली में शिथिलता प्रदान करते हुए सीधे सहायक अध्यापक पद पर नियमित किया जाए। इन सभी मांगों को लेकर शिक्षामित्रों ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगातार हो रही असामयिक मौतों से संघ आहत है और शिक्षामित्रों का भविष्य सुरक्षित करने के लिए 11 व 12 जनवरी 2023 को लखनऊ में शिक्षामित्र सम्मान बचाओ रैली करने को विवश होगा। जिसकी पूर्णतया जिम्मेदारी शासन और प्रशासन की होगी। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ इस बार बेबस और आर-पार की लड़ाई के मूड में है।

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें

You cannot copy content of this page