होमउत्तर प्रदेशनिशुल्क जांच: सीएचसी पर मशीन खराब होने पर गर्भवती महिलाये निजी केंद्रों...

निशुल्क जांच: सीएचसी पर मशीन खराब होने पर गर्भवती महिलाये निजी केंद्रों पर भी करा सकेंगी निशुल्क जांच

spot_img

उत्तर प्रदेश में अब कहीं भी कोई जांच मशीन खराब होगी तो उसकी जानकारी अब एप पर मिल सकेगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी तैयारियां लगभग पूरी कर ली हैं। बहुत जल्द एप को लांच कर दिया जाएगा। बरेली में रविवार को डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक यह जानकारी दी।

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने एक एप तैयार किया है, जिसे जल्द ही लांच किया जाएगा। जिसमे प्रदेश में कहीं भी कोई जांच मशीन खराब होगी तो संबंधित चिकित्सक उसका फोटो और डिटेल एप पर डाल देंगे। आम आदमी भी एप पर खराब मशीनों की जानकारी अपडेट कर सकेंगे।

इसके साथ ही मरम्मत के लिए टेक्नीशियन 24 घंटे के अंदर वहां पहुंच जाएगा। इसके अलावा किस अस्पताल में कौन सी मशीन खराब है, एप के जरिये कोई भी इसे देख सकेगा।

गर्भवती महिलाओं के लिए सौगात

इसके अलावा जल्द ही सरकार गर्भवतियों को सौगात देने जा रही है। वे प्रदेश में कहीं भी निशुल्क अल्ट्रासाउंड जांच करा सकेंगी। इसके लिए पहले सीएचसी पर पंजीकरण कराना होगा। किसी कारणवश वहां अल्ट्रासाउंड व अन्य जांचें नहीं हो पा रही हैं तो उन्हें निजी जांच केंद्रों पर भेजा जाएगा। जांच का खर्च सरकार उठाएगी। इसके लिए आसपास मौजूद निजी केंद्रों को सीएचसी से संबद्ध किया जा रहा है।

जांच के लिए सीएचसी प्रभारी महिलाओं को ई-वाउचर देंगे। मोबाइल पर मिलने वाले इस वाउचर को दिखाकर निजी जांच केंद्रों पर जांच होगी और सीएचसी संबंधित केंद्र को भुगतान करेगा। डिप्टी सीएम ने बताया कि अभी कुछ जगहों पर इसे ट्रायल के तौर पर लागू किया गया है। जल्द ही यह व्यवस्था पूरे प्रदेश में लागू होगी।

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें