Homeदेशसुकन्या समृद्धि योजना: नए साल पर मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, इस...

सुकन्या समृद्धि योजना: नए साल पर मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, इस योजना के लिए दूसरी बार बढ़ाई ब्याज दरें

नए साल पर सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने वालों को एक बड़ी सौगात दी है। इस योजना के लिए वित्त वर्ष 2023-24 की चौथी तिमाही के लिए ब्याज दर बढ़ा दिया है इसे अब 8.2 प्रतिशत कर दिया गया है। इस योजना पर पहले 8 फीसदी ब्याज दिया जाता था। हालांकि सरकार ने दूसरी योजनाओं की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है।

व्हाटऐप चैनल से जुड़ें Join Now
टेलीग्राम चैनल से जुड़ें Join Now
गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें Follow

वित्त वर्ष 2023-24 की चौथी तिमाही के लिए सरकार ने लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरों का खुलासा कर दिया है। सुकन्या समृद्धि योजना के अलावा किसी भी योजना की ब्याज दरें नहीं बढ़ाई गई हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के लिए जनवरी से मार्च तिमाही के दौरान ब्याज दर बढ़ाकर 8.2 प्रतिशत कर दिया गया है।

सुकन्या समृद्धि योजना: दूसरी बार बढ़ी ब्याज दरें

इस वित्त वर्ष में यह दूसरी बार है जब सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना के लिए ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी की है। इससे पहले पहली तिमाही के दौरान सरकार ने इस योजना की ब्याज दर 6 प्रतिशत से बढ़ाकर 8 प्रतिशत कर दिया था।

फिक्स्ड डिपोजिट स्कीम की ब्याज दरों में भी बढ़ोत्तरी

सुकन्या समृद्धि योजना के अलावा तीन वर्ष की सावधि जमा पर मौजूदा ब्याज दर 7 प्रतिशत से बढ़कर 7.1 प्रतिशत हो जाएगी। वहीं दूसरी ओर, पीपीएफ और बचत जमा पर ब्याज दरों को क्रमश: 7.1 प्रतिशत और चार प्रतिशत पर बरकरार रखा गया है।

यह है जनवरी-मार्च 2024 के लिए ब्‍याज दर 

  • पोस्‍ट ऑफिस की सेविंग अकाउंट के लिए ब्‍याज 4 प्रतिशत
  • एक साल की टाइम डिपॉजिट की ब्‍याज दर 6.9 प्रतिशत
  • 2 साल की टाइम डिपॉजिट ब्‍याज दर 7.0 प्रतिशत
  • 3 साल की टाइम डिपॉजिट ब्‍याज दर 7.1 प्रतिशत
  • 5 साल की टाइम डिपॉजिट का ब्‍याज 7.5 प्रतिशत
  • 5 साल की RD स्‍कीम का ब्‍याज 6.7 प्रतिशत
  • राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (NSC) का ब्‍याज 7.7 प्रतिशत
  • किसान विकास पत्र का ब्‍याज 7.5 प्रतिशत
  • सार्वजनिक भविष्य निधि (PPF) का ब्‍याज 7.1 प्रतिशत
  • सुकन्या समृद्धि खाता (SSY) का ब्‍याज 8.2 फीसदी
  • वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (SCSSY) का ब्‍याज 8.2 प्रतिशत
  • मासिक आय खाता का ब्‍याज 7.4 प्रतिशत
spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें