Home धर्म Surya Grahan 2022 : 1300 वर्षों बाद बाद बना सूर्य ग्रहण का...

Surya Grahan 2022 : 1300 वर्षों बाद बाद बना सूर्य ग्रहण का दुर्लभ योग, जानें सब कुछ

25 अक्तूबर यानि आज साल का आखिरी सूर्य ग्रहण है। कई वर्षों बाद दिवाली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा न होकर एक दिन का अंतर है। दिवाली और गोवर्धन पूजा के बीच सूर्य ग्रहण का ऐसा संयोग कई वर्षो बाद पड़ रहा है। एक गणना के अनुसार पिछले 1300 वर्षों बाद सूर्य ग्रहण दो प्रमुख त्योहार के बीच पड़ने के साथ बुध, गुरु, शुक्र और शनि सभी अपनी-अपनी राशि में मौजूद रहेंगे।

साल का यह आखिरी आंशिक सूर्यग्रहण भारत के कई हिस्सों में दिखाई देगा। भारत में सूर्यग्रहण दिखाई देने से इसका सूतक काल मान्य होगा। जिसके कारण ग्रहण से संबंधित धार्मिक मान्यताएं का पालन किया जाएगा। जाएगी।

  • सूर्य ग्रहण की तिथि: 25 अक्टूबर 2022
  • सूर्य ग्रहण का समय (भारतीय समयानुसार) : 04:22 से 05:42 तक
  • सूर्य ग्रहण की समय अवधि: 1 घंटे 19 मिनट

भारत में कहां-कहां दिखाई देगा सूर्यग्रहण

खगोल वैज्ञानिकों के अनुसार दिवाली के बाद लगने वाला सूर्यग्रहण देश के उत्तरी और पश्चिमी भागों में आसानी के साथ देखा जा सकेगा,जबकि पूर्वी भागों में यह ग्रहण नहीं दिखाई देगा क्योंकि यहां पर सूर्यास्त जल्दी हो जाएगा। भारत में ग्रहण की शुरुआत शाम के 4 बजे के बाद ही होगी।

दिल्ली, राजस्थान,पश्चिमी मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब,उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड. जम्मू, श्रीनगर, लेह और लद्दाख दक्षिण भारत के हिस्से जैसे तमिलनाडु, कर्नाटक,मुंबई, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा, बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड और बंगाल

देश के इन हिस्सों में नहीं दिखाई देगा सूर्यग्रहण: देश के पूर्वी भागों में असम,अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर और नागालैंड 

दुनिया के किन हिस्सों में दिखाई देगा सूर्य ग्रह: 25 अक्तूबर को साल का आखिरी सूर्यग्रहण होगा फिर 08 नवंबर को पूर्ण चंद्र ग्रहण भी लगेगा। यह सूर्य ग्रहण यूरोप, उत्तरी-पूर्वी अफ्रीका, मध्य और पश्चिमी एशिया, ऐशिया, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और प्रशांत महासागर।

सूर्य ग्रहण का योग और ग्रहों का योग 1300 सालों बाद बना रहा है

इस वर्ष दिवाली के अगले दिन सूर्यग्रहण का योग और ग्रहों का योग 1300 सालों बाद बना रहा है। ग्रहण के समय चार ग्रह खुद की राशि में मौजूद रहेंगे। जिसमें बुध,गुरु, शनि और शुक्र सभी चारों ग्रह अपनी-अपनी राशि में मौजूद रहेंगे। शनि मकर राशि में, गुरु अपनी मीन राशि में,बुध कन्या राशि में और शुक्र तुला राशि में रहेंगे।

सूर्य ग्रहण का सूतक काल कब से होगा शुरू

भारत में आंशिक सूर्य ग्रहण लगने के कारण इसका सूतक काल मान्य होगा। धार्मिक नजरिए से सूतक काल को शुभ नहीं माना जाता है। सूतक में पूजा-पाठ और शुभ काम वर्जित होते हैं। हिंदू पंचांग की गणना के अनुसार 25 अक्तूबर को सूर्य ग्रहण शाम चार बजे के आसपास शुरू हो जाएगा। सूर्य ग्रहण लगने पर सूतक काल ग्रहण के शुरू होने से 12 घंटे पहले लग जाता है। यह ग्रहण करीब डेढ़ घंटे तक चलेगा।

सूर्य ग्रहण में क्या करें

  • ग्रहण शुरू होने से पहले यानी सूतक काल प्रभावी होने पर पहले से ही खाने-पीने की चीजों में पहले से तोड़े गए तुलसी के पत्ते को डालकर रखना चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान अपने इष्ट देवी-देवताओं के नाम का स्मरण करना चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान इसके असर को कम करने के लिए मंत्रों का जाप करना चाहिए।
  • ग्रहण खत्म होने पर पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करना चाहिए।

क्या न करें

  • ग्रहण के दौरान कभी भी कोई शुभ काम या देवी-देवताओं की पूजा नहीं करनी चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान न ही भोजन पकाना चाहिए और न ही कुछ खाना-पीना चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं का ग्रहण नहीं देखना चाहिए और न ही घर से बाहर जाना चाहिए। 
  • ग्रहण के दौरान तुलसी समेत अन्य पेड़-पौधों नहीं छूना चाहिए।

 

सूर्य ग्रहण कब लगता है?

धार्मिक नजरिए से ग्रहण की घटना को बहुत ही अशुभ माना जाता है। ग्रहण के दौरान किसी भी तरह का कोई भी शुभ काम या पूजा-पाठ नहीं होती है। लेकिन सूर्य और चंद्र ग्रहण को एक खगोलीय घटना माना जाता है। सूर्यग्रहण तब लगता है जब चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से ढक लेता है ऐसी स्थिति में सूर्य की किरणें पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाती है।

इस घटना को ही सूर्य ग्रहण या फिर पूर्ण सूर्य ग्रहण कहा जाता है। वहीं जब चंद्रमा सू्र्य के कुछ हिस्सों को ही ढक पाता है तो इसे आंशिक सूर्य ग्रहण कहते हैं। इस स्थिति में सूर्य की कुछ किरणें पृथ्वी तक पहुंचती तो नहीं। और जब चंद्रमा सूर्य के बीच वाले भाग को ढकता है तो सूर्य एक रिंग की तरह दिखाई देता है। इसे वलयाकार सूर्य ग्रहण कहते हैं।

- Advertisement -

लेटेस्ट

21 हजार का चेक, टैबलेट और प्रशस्ति पत्र पाकर मेधावी छात्र/छात्रायें हुए गदगद

हरदोई: "परीक्षा पे चर्चा" कार्यक्रम को आज सम्पूर्ण जनपद के माध्यमिक विद्यालयों मे देखा गया। जिसमे प्रधानमंत्री ने छात्र/छात्राओं को परीक्षा से...

मंत्री नितिन अग्रवाल ने 74वें गणतंत्र दिवस पर किया ध्वजा रोहण, कहा देश ने सभी क्षेत्रों में कीर्तिमान स्थापित किया

हरदोई: 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर पुलिस लाइन में आयोजित भव्य कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राज्य मंत्री आबकारी...

Hardoi News: बड़ी धूमधाम से मनाया गया 74वां गणतंत्र दिवस, 26 विभागों ने निकाली झांकी

हरदोई: आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, चिकित्सा अधिकारी ने अपने कार्यालय सहित जनपद के सभी कार्यालयों,...

Hardoi: 2 साल में भी पूरा न हो सका रेलवे ओवरब्रिज, काम की धीमी गति पर नाराज हुए डीएम

हरदोई: जनपद में शाहाबाद आंझी रेलवे क्रासिंग पर पिछले दो सालों से बन रहे रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण अभी तक पूरा नहीं...