होमहरदोईधर्म परिवर्तन: मदरसे में 7 साल बंधक बनाकर रखा, फिर विवेक से...

धर्म परिवर्तन: मदरसे में 7 साल बंधक बनाकर रखा, फिर विवेक से बना दिया मोहम्मद उमर, ऐसे हुआ खुलासा

हरदोई: यूपी में हरदोई के विवेक को 7.5 साल तक मुजफ्फरनगर के एक मदरसे में बंद रखा गया और उसका जबरन धर्म परिवर्तन कराकर विवेक से मोहम्मद उमर बना दिया गया। मुजफ्फरनगर बाल कल्याण समिति को जैसे ही इस बात का पता चला तो तुरंत ही किशोर को मदरसे से मुक्त कराया और उसके माता-पिता के सुपुर्द कर दिया।

माता-पिता की खुशी का ठिकाना उस समय नहीं रहा जब उनका बेटा साढ़े सात साल बाद उनके सामने थे। पूरे मामले में मदरसा संचालक समेत चार लोगों के खिलाफ धर्म परिवर्तन की रिपोर्ट भी मुजफ्फरनगर में दर्ज की गई है।

सात साल पहले स्कूल के लिए निकला था विवेक

मिली जानकारी के अनुसार हरदोई के बघौली थाना क्षेत्र के गोसवा रहने वाले वीरेंद्र चंडीगढ़ में परिवार सहित रहकर मजदूरी करते थे। 17 मार्च 2016 को वीरेंद्र का पुत्र विवेक स्कूल जाने के लिए निकला, लेकिन फिर वापस घर नहीं पहुंचा। वीरेंद्र ने चंडीगढ़ के थाना मौलीजागरा में गुमशुदगी की रिपोर्ट 17 मार्च 2016 को दर्ज कराई लेकिन किशोर का कोई सुराग नहीं लगा।

चार अक्तूबर 2023 को मुजफ्फरनगर के चरथावल थाना क्षेत्र के नगला राई गांव के रहने वाले मतलूब एक आधार कार्ड सेंटर पर पहुंचा। यहां उसने मोहम्मद उमर नाम के किशोर को अपना पुत्र बताते हुए आधार कार्ड में नाम पता संशोधित कराने के लिए दिया।

जबरन धर्म परिवर्तन करने का मामला सामने आया

आधार कार्ड में मोहम्मद उमर का नाम विवेक पुत्र वीरेंद्र निवासी 47 रायपुर कला चंडीगढ़ दर्ज होने के कारण सेंटर संचालक ने नाम पता बदलने से इन्कार कर दिया। इसकी जानकारी किसी तरह मुजफ्फरनगर के लोहारी खुर्द के प्रधान जैकी राज सैनी को हुई, तो सैनी ने पुलिस को इस बात की जानकारी दी।

बताया गया इसके बाद विवेक के परिवार वालों से संपर्क कर उन्हें मुजफ्फरनगर बुलाया गया। जब जांच की गयी तो विवेक का जबरन धर्म परिवर्तन करने और उसे मदरसे में कैद रखने का मामला सामने आया।

प्रधान, मौलवी समेत 4 के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज

वीरेंद्र कुमार की तहरीर पर मुजफ्फरनगर के चरथावल थाने में नगला राई के प्रधान अफसरून, जामिया उस्मानिया इस्लामिया के मौलवी, मतलूब और मौलाना मुकर्रम जमाल के खिलाफ धर्म परिवर्तन की और अपहरण की रिपोर्ट दर्ज की गई है।

सऊदी अरब भेजने की थी तैयारी

मदरसे में सात साल से अधिक बंधक रहे विवेक का पहले धर्म परिवर्तन कर मोहम्मद उमर बनाया गया फिर उसको वेल्डिंग का काम सिखा कर सऊदी अरब भेजने की तैयारी थी। इसीलिए जब आधार कार्ड में नाम, पता संशोधन की बारी आई तो पूरा सच सामने आ गया। फिलहाल विवेक के घर वापस आने से न सिर्फ परिवार वाले बल्कि पूरे गांव में खुशी का माहौल है। विवेक ने बताया कि मदरसे में उसका नाम बदलकर मोहम्मद उमर रख दिया गया था।

हमारे लिए तो जैकीराज भगवान:वीरेंद्र

विवेक के पिता वीरेंद्र बताते हैं कि मुजफ्फरनगर की लुहारीखुर्द प्रधान जैकीराज सैनी हमारे लिए भगवान बनकर आए। दरअसल, विवेक को उमर बनाकर रखने की जानकारी आधार सेंटर के संचालक ने सबसे पहले जैकीराज को ही दी थी। जैकीराज मुजफ्फरनगर में शिवाजी सेना के जिलाध्यक्ष हैं। उन्होंने ही पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी और तभी एक मासूम अपने माँ और पिता से दुबारा मिल सका है।

spot_img
- Advertisment -

ताज़ा ख़बरें