HomeदेशHardoi News: बेटी का चरित्र ठीक नहीं था इसीलिए मार डाला, 30...

Hardoi News: बेटी का चरित्र ठीक नहीं था इसीलिए मार डाला, 30 मार्च को युवती का बोरी में मिला था शव

spot_img

Hardoi News: उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में 30 मार्च को एक विवाहित युवती का शव सड़क किनारे बोरी में मिला था। इस पूरे मामले का पुलिस ने सोमवार को खुलासा कर दिया है। पुलिस अनुसार युवती की हत्या उसके पिता और मामा ने ही की थी। पिता का कहना था कि उसकी बेटी का चरित्र ठीक नहीं था। समाज में बदनामी होने के डर से मार डाला।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Channel Join Now
Google News Follow

वहीं शव मिलने के बाद युवती के पिता ने पुलिस को गुमराह भी किया था। उसने दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए युवती के पति समेत 4 लोगों पर मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने मामले में लड़की के ससुराल वालों के अलावा पिता और मामा से भी घटना को लेकर पूछताछ की।

पुलिस को पिता और मामा के बयानों से शक हुआ। इसके बाद पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो पिता टूट गया और बेटी की हत्या की बात कबूल कर ली। पुलिस ने युवती के पिता और मामा को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं आरोपी मामा ने खुद को निर्दोष बताया है। उसने कहा, उसे घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं है। पुलिस उसे जबरदस्ती पकड़ लाई है।

30 मार्च को हरदोई के सांडी थाना क्षेत्र के ग्राम परसापुर के निकट सड़क किनारे मिली एक बोरी में महिला के दोनों हाथ-पैर बंधे हुए थे। महिला का सिर पूरी तरह से कुचला हुआ था।

महिला की पहचान बैग की तलाशी के दौरान मिले आधार कार्ड से हुई थी। जिसमें उसका नाम सुनैना पुत्री ज्ञानेंद्र निवासी कुमरौली पोस्ट तुर्तीपुर हरदोई लिखा था। इसके बाद मामले की सूचना परिजनों ने पुलिस को दी गई। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया। परिजन भी वहां पहुंच गए।

दर्ज कराया दहेज हत्या का केस

मृतका के पिता ने दहेज के लिए बेटी की हत्या करने का आरोप लगाया। उसने बताया था कि, बेटी के ससुराल वाले उसे दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे। पुलिस ने पिता की तहरीर पर मृतका के पति आकाश, देवर निर्मल तिवारी, चाचा ससुर बृजेश कुमार और कमलेश पर दहेज उत्पीड़न और गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज किया।

मामला शुरू से ही संदिग्ध था

अपर पुलिस अधीक्षक नृपेंद्र कुमार ने बताया कि मृतका के पिता की तहरीर पर मुकदमा लिखा गया था, लेकिन मामला शुरू से ही शक के घेरे में था। मामले की जांच सीओ बिलग्राम को दी गई। जिसके बाद पुलिस ने सभी पहलुओं पर जांच पड़ताल की। पति और अन्य ससुराल वालों से पूछताछ की गई।

इसके बाद युवती के पिता से भी पूछताछ की। उनके बयान से पुलिस का शक गहराता गया। सख्ती करने पर पिता ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। युवती के पिता ज्ञानेंद्र ने अपने चचेरे साले रामगोपाल के साथ इस वारदात को अंजाम दिया था। वह ग्राम हर्रई थाना टडियावा, हरदोई का रहने वाला है।

बदनामी के डर से मार डाला

मृतक सुनैना के पिता ज्ञानेंद्र ने पुलिस पूछताछ में बताया, उसकी बेटी का चरित्र ठीक नहीं था। शादी के बाद भी वह लड़कों से मिलती थी। हमने कई बार उसको रोका, लेकिन वह नहीं मानी। हमें यह डर था, यह बात सामने आ गई तो हमारी समाज में कितनी बदनामी होगी। बेटी के ससुराल वाले भी ताना देंगे। इसके बाद हमने बदनामी के डर से सुनैना को मारने का प्लान बनाया।

उसे मायके लाने के बहाने उसकी ससुराल पहुंचे। इसके बाद रास्ते में उसके सिर पर डंडा मारा। उसका चेहरा ईंट से कूच दिया। शव को बोरे में डालकर परसापुर-भैरमपुर में सड़क के किनारे रख दिया। पास ही बैग में उसका आधार कार्ड रख दिया, जिससे उसकी पहचान हो जाए।

Latest Hardoi News के लिए क्लिक करें..

यह भी पढ़ें –

spot_img
- Advertisment -spot_img

ताज़ा ख़बरें